क्या फेसबुक पर हमारा वजूद सिर्फ हमारी तस्वीर की वजह से है? - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 17 April 2018

क्या फेसबुक पर हमारा वजूद सिर्फ हमारी तस्वीर की वजह से है?




रीटा शर्मा & सुजाता 

पिछले साल का एक संदेश इस बार फिर चल पड़ा कि महिलाएँ अपनी डीपी को एक दिन के लिए काला करें मर्दों को एहसास कराएँ कि हमारे बिना दुनिया कितनी सूनी होगी। हम नहीं जानते कि यह संदेश कहाँ , किस स्रोत से चला और और क्यों चला।

लेकिन अचानक रात होते-होते हमारे इन्बॉक्स इस संदेश से भरने लगे। हम यह पिछले साल भी इस तरह कर चुके थे। इसलिए उत्साह नहीं था। पहली बात तो यह कि जहाँ से इस तरह के संदेश शुरुआत में चले होते हैं वे यह स्पष्ट नहीं करते कि क्या संदेश, कैसे, किस तक, क्यों पहुँचाना है। महज़ डीपी काली करके मर्दों को कैसे एहसास दिलाया जाएगा कि दुनिया हमारे बिना कितनी सूनी और बेस्वाद होगी। इसका मतलब औरत की तस्वीरें फेसबुक की दुनिया को रौनक देती हैं? क्योंकि डीपी काली करने के बाद भी उसका लिखा, उसका लाइक, उसका कमेण्ट तो रहने ही वाला है। यह बेहद पितृसतात्मक सोच है। 

जिस तरह से स्त्रियों के ख़िलाफ़ अपराध बढ रहे हैं और फेसबुक पर भी गालियाँ-नसीहतें-उपदेश-ट्रॉलिंग मिलती रहती है औरतों को उसके जवाब में होना तो यह चाहिए था कि हम सब स्त्रियाँ घरों को एक दिन के लिए त्याग कर, घरेलू श्रम से एक दिन के लिए अपना हाथ खींच कर,  दफतरों को छोड़कर चली जाएँ। पार्क में बैठें। ताश खेलें। सिनेमा हॉल, सड़कें, रेसतराँ, लाइब्रेरीज़, बेंचें, ट्रेनें, बसें, जितना भी पब्लिक प्लेस है, सब भर दें !

लेकिन वर्चुअल दुनिया में एक दिन के लिए फेसबुक का घर तो खाली किया ही जा सकता है। यह सामूहिक गायब होना एक संदेश होगा। ‘पल्स पोलियो’ अभियान याद है न। हम औरतें जो धड़कन की तरह हैं, वह चलती हुई नज़्ब  पूरी दुनिया में एकसाथ बंद हो जाए तो ? जिस तरह औरतों के वजूद को मिटाने की साज़िशें हो रही हैं , एक दिन खुद हमीं कह दें कि सम्भालो अपनी दुनिया, रहो हमारे बिना , तो ? 

संदेश यह कि हमें अस्वीकार है यह स्त्री-अपराधों- बलात्कारों से अटी पड़ी दुनिया। हम निंदा करते हैं। बच्चियों की हत्याओं-बलात्कारों से हम शोक में हैं। हम गुस्से में हैं। हम सड़कों पर उतर आए, हम चिल्लाए, प्लेकार्ड दिखाए, सिगनेचर कैम्पेन चलाए, आँसू बहाए, विचलित होकर पोस्ट लिख रहे हैं लगातार। लेकिन विरोध दर्ज करने का हर तरीक़ा नाकाफ़ी लग रहा है। बेवकूफी सही, लेकिन यह हमारी सोची हुई बेवकूफी है। किसी अनजान स्रोत से फैलाई जा रही नहीं।
                                         कवियत्री एवं प्रोफ़ेसर सुजाता 

ऐसे में जो लोग कह रहे हैं एक दिन से क्या होगा उनसे हम सहमत हैं। एक दिन करवाचौथ रखने से प्यार भी नहीं बढेगा। एक दिन दिवाली मनाने से लक्ष्मी नहीं आएगी। एक दिन पढाने से बच्चे पास नहीं होते। एक दिन आप सड़कों पर रहेंगी नारे लगाते तो , बच्चों को होमवर्क कराता, एक की पॉटी साफ करता मर्द आपसेरिश्ता नहीं तोड़ लेगा। एक दिन खाना न खाने से मर नहीं जाते। एक दिन घर-बार छोड़ कर औरत के हक़ में निकल आने से घर टूट नहीं जाएंगे ! एक दिन अकेले मस्ती के लिए निकल जाएंगी तो पति तलाक़ नहीं दे देगा। एक दिन समाज के लिए दे देने से ससुराल वाले आपको कुलटा नहीं कह देंगे।

एक दिन ज़ुल्म के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने से बार-बार आवाज़ उठाने की हिम्मत आती है। एक दिन चिल्लाने से सत्ता के कान फट जाते हैं। बस हम आवाज़ में आवाज़ मिलाने से डरते हैं।

ये facebook पोस्ट चर्चित कवयित्री और लेखिका सुजाता (दिल्ली विश्वविद्यालय, असिस्टेंट प्रोफ़ेसर) की वॉल से लिया गया है

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।