बस्ती -जिला महिला अस्पताल की सुबिधाओं में अकाल - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 9 August 2018

बस्ती -जिला महिला अस्पताल की सुबिधाओं में अकाल

विश्वपति वर्मा _ 
सरकार प्रदेश में बेहतर स्वास्थ सेवाएं दिए जाने के लाख दावे करे लेकिन अस्पतालों में हकीकत कुछ और ही है. बात  वीरांगना रानी तलाश कुंवरि जिला महिला अस्पताल बस्ती  करे तो यहाँ रोजाना जिले भर से सैकड़ो  मरीज आते हैं. लेकिन मरीजों की संख्या के लिहाज से यहाँ कोई सुविधाएं नजर नहीं आती है,इसके अलावां यंहा उपलब्ध सेवाओं में भी कटौती की जा रही है। 


जिला महिला अस्पताल में  आने वाले मरीजों के परिजनों को अस्पताल की कई अव्यवस्थाओं से जूझना पड़ रहा है. गरीब बीमार लोगों की दिक्कतों पर यहां ध्यान देने वाला कोई नजर नहीं आता है। अस्पताल में अनेक बुनियादी सुविधाओं का अभाव है तो संख्या अधिक होने पर मरीजों के तीमरदारों को  जमीन पर बैठना  पड़ता है।

अस्पताल में अव्यवस्था इस कदर फैली हुई है कि जनरल वार्ड से लेकर प्राइवेट वार्ड तक साफ सफाई की कोई व्यवस्था नहीं है , अस्पताल में अपनी पत्नी को भर्ती कराये हुए सेखुई निवासी राकेश कुमार ने तहकीकात न्यूज़ से बात चीत में बताया कि यंहा की स्थिति इतनी खराब है कि बेड के कवर (चादर )को एक हप्ते से अधिक दिन तक नहीं बदला जाता है लिहाजा तीमरदारों को चादर एवं साफ सफाई की व्यवस्था स्वयं करनी पड़ती है। 

अपने एक रिस्तेदार को भर्ती कराये हुए बस्ती निवासी  करन मिश्रा ने बताया की अस्पताल के मरीजों को प्रसव उपरांत आधा किलो ग्राम दूध या दो फल के साथ चावल ,दाल ,सब्जी ,सलाद ,एवं पराठे की व्यवस्था है लेकिन अस्पताल में मिलने वाला खाना मानक के हिसाब से नहीं दिया जाता है। 

इतना ही नहीं दर्जनों मरीजों और उनके परिवार जनों से बात चीत में लोगों ने बताया कि अस्पताल के प्रांगण में मच्छर इत्यादि संक्रमित कीड़ों को नष्ट करने के लिए कभी किसी प्रकार की दवा या फागिंग की व्यवस्था नहीं की जाती है जिसके चलते पूरी रात मरीजों को समस्या झेलनी पड़ती है। 


सारी अव्यवस्थाओं  के बीच यहां डॉक्टरों की उप्लब्धता में भारी कमी है  यंहा भर्ती ज्यादातर  मरीजों को डॉक्टर समय नहीं दे पाते जिसके चलते खाने-पीने एवं दवाओं संबंधित किसी भी जानकारी के लिए मरीजों को 8 घंटे से अधिक देर तक इंतजार करना पड़ता है। 

No comments:

Post a Comment