मूलभूत आवश्यकताओं से वंचित गांव की बहुसंख्यक आबादी - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 5 September 2018

मूलभूत आवश्यकताओं से वंचित गांव की बहुसंख्यक आबादी



जागरूकता के अभाव में मूलभूत आवश्यकताओं से वंचित गांव की  बहुसंख्यक आबादी

विश्वपति वर्मा (सौरभ )

भारत आबादी के  के दृष्ट्रि से विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है जंहा की अधिकांश आबादी गांव में निवास करती है , लेकिन आजादी के 70 वर्ष से ज्यादा बीत जाने के बाद अभी तक गांव विकास कि मुख्य धारा  में नहीं आ पाई है ,गांव में शिक्षा का अभाव है ,रोजगार की कमी है ,स्वच्छ पेय जल नहीं है ,शौचालय बनवाने की बात तो हो रही लेकिन उनके सर पर छत नहीं है ,चिकित्सा सुबिधायें नगण्य है ऐसी बहुत सारी  समस्याएं गांव में लगातार बनी हुई हैं  जिसके वजह से आज गांव गाँधी जी के सपने को पूरा नहीं कर पा रहा है।




बस्ती जनपद के 14 ब्लॉक सल्टौआ ,रुधौली,गौर ,रामनगर ,बनकटी ,कुदरहा ,दुबौलिया ,बहादुरपुर ,विक्रमजोत ,परशुरामपुर ,साउघाट ,कप्तानगंज ,हर्रैया एवं जनपद मुख्यालय पर स्थिति ब्लॉक सदर शामिल है ,जंहा पर 2011 की जनगणना के अनुसार 2,464,464 महिला एवं पुरुष वर्ग की आबादी है जिसमे से 1,255,272 पुरुष आबादी एवं 1,209,192 महिलाओं की आबादी है जंहा पर बहुसंख्यक आबादी अपने हक़ अधिकार से भी वंचित है ऐसी स्थिति का अंदाजा हमने खुद क्षेत्र में चलकर देखा जंहा की वर्तमान स्थिति आधुनिक भारत से अभी 25 साल पीछे है। 

शिक्षा का अभाव 
गांव में भले लोग पढ़ने जा रहे हैं लेकिन उनकी स्थिति केवल साक्षर बनाना जैसे ही है ,गांव की अधिकांश आबादी को पढ़ने लिखने का मतलब नहीं मालूम है इसका जीता-जागता  उदाहरण गांव की महिलाएं एवं बच्चे हैं,गांव में अमूमन परिषदीय विद्यालय हैं जिसमे पढाई की गुणवक्ता ठीक नहीं रहती जिसके वजह से  ही इन्हे सामन्यज्ञान और राष्ट्रीय घटना क्रम की जानकारियां नहीं हो पाती इस लिए शिक्षा का अभाव भी बहुसंख्यक आबादी को ठगे जाने का एक कारण बनी हुई है,इस लिए योजनाओं की समुचित जानकारी के लिए देश में गुणवक्तापरक शिक्षा की नितांत आवश्यकता है।

जिम्मेदार लोगों की उदासीनता 
गांव में कौन सी योजना कब और किसके लिए आ रही है अगर इसकी जानकारी समय से गांव के लोगों को मिल जाये तो जाहिर है  कि पात्र व्यक्ति के पास जारी योजना पंहुचने में आसानी होगी ,बहुत सारी योजनाएं गांव के लोग तब तक नहीं जान पाते जब तक वह योजना अपात्र व्यक्ति के पास नहीं चली जाती ,अगर अवाम की रहनुमाई करने वाले जिम्मेदार लोग समय से सूचना के नई क्रांति का प्रयोग करते हुए योजना के बारे में जानकारी गांव -गांव तक पंहुचा दें तो लोग सुबिधाओं से वंचित नहीं होंगे।

जनप्रतिनिधियों की जवावदेही 
गांव के लिए जारी समस्त योजनाओं का क्रियान्यवयन सही तरीके हो इसके लिए चाहिए की स्थानीय जनप्रतिनिधि सम्पूर्ण योजनाओं पर निगरानी रखें साथ ही संबंधित विभागों से समयानुसार काम की प्रगति एवं निष्पक्षता की जानकारी लें तब जाकर कोई भी योजना अपने उद्देश्य के प्रति पंहुचने में कामयाब होगी। 


जागरूकता की जरुरत 

इतना ही नहीं समस्त योजनाओं  जानकारी हर किसी को हो इसके लिए दूसरे पर आश्रित होना ही नहीं बल्कि लोगों को खुद भी जागरूक होना पड़ेगा ,लोगों को यह जानना होगा कि  सरकार  द्वारा जनहित के लिए कौन कौन से योजना चलाई जा रही है इसके लिए वे लोग जो सोशल मीडिया  पर एक्टिव रहते हैं उन्हें योजनाओं का प्रचार प्रसार करना चाहिए और गांव के लोगों खासकर महिलाओं को तो कम सेर कम रेडियो के माध्यम से कुछ  नई  जानकारियों को सुनना सीखना चाहिए ,रेडियो का माध्यम इस लिए अच्छा है क्योंकि अनपढ़ या कम  पढ़े -लिखे लोग भी रेडियो के माध्यम से दी जाने वाली जानकारी को आसानी से समझ सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।