बस्ती-मरम्मत कार्य ठप्प रहने से मिल चलने के आसार कम - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 10 September 2018

बस्ती-मरम्मत कार्य ठप्प रहने से मिल चलने के आसार कम



जिला संवाददाता -बस्ती तहकीकात न्यूज़ 

बस्ती जनपद के दो शुगर मिल बजाज ग्रुप द्वारा संचालित हो रही है।जबकि तीसरी मिल बस्ती को घाटा दिखाकर बंद कर दिया गया।


अब दूसरी मिल गोविंद नगर शुगर मिल लिमिटेड बंद होने के कगार पर है।किसान संगठनो,क्षेत्रीय लोगो व सांसद हरीश द्विवेदी के प्रयास से मिल प्रबंधन ने बर्ष 2016-17 पेराई सत्र किसी प्रकार शुरु हुआ।बंदी के कगार पर पहुची वाल्टरगज चीनी मिल बजाज ग्रुप द्वारा संचालित किया जा रहा है।इसके पूर्व नांरग ग्रुप द्वारा संचालित हो रहा था।नांरग ग्रुप के समय मे गन्ना भुकतान समय -समय पर होता रहा है।पंरतु बजाज ग्रुप ने जब से यह मिल लिया है।तब से पेराई सत्र पूरा नही हुआ है।किसानो के बकाए गंन्ना मूल्य भुतान भी समय से नही हो पा रहा है।अभी पीछले पेराई सत्र का बकाया किसानो को नही मिला है।

बताते चले कि बजाज ग्रुप की दूसरी मिल बस्ती शुगर मिल भी था।जो अब बंद हो चुका है।वाल्टगंज चीनी मिल प्रबंधन की उदासीनता के कारण चलने के आसार कम ही दिखाई दे रही है। जनपद के रुधौली तहसील में अठदमा नामक स्थान पर सुगर मिल की नई इकाई स्थापित की तभी से जिम्मेदारों द्वारा गोविंद नगर शुगर मिल और बस्ती शुगर मिल को बंद करने का कुचक्र चलता रहा 

अंततः मिल को घाटे में दिखाकर बस्ती सुगर मिल बंद कर दिया गया यही कुचक्र वाल्टरगंज शुगर मिल के साथ भी रचा जा रहा है गन्ने के भुगतान हेतु सरकार द्वारा जारी रोस्टर को भी सुगर मिल ने प्रशासन को धोखे में रखकर अनदेखी कर दी आज भी किसानों का करोड़ों रुपए गन्ना मूल्य सुगर मिल के जिम्मे बकाया है यही नहीं मिल के कर्मचारियों का भी 5 महीने तक का वेतन भुगतान नहीं किया गया इसी को लेकर कर्मचारियों ने सुगर मिल के वाइस प्रेसिडेंट अध्यासी विनोद सिंह के आवास का 3 दिनों तक बिजली पानी बंद कर दिया था।घटना की सूचना पाकर पहुंचे थानेदार वाल्टरगंज अनिल कुमार सिंह ने बातचीत करने हेतु विनोद सिंह को अपने साथ थाने ले आए और श्रमिकों को भी थाने पर बुलाकर बातचीत हुई थाने पर यह तय किया गया की श्रमिकों का भुगतान धीरे-धीरे करके कर दिया जायेगा


*क्या चलेगी वाल्टरगंज शुगर मिल*

शुगर मिल को सुचारु रुप से चलाने के लिए महीनों पूर्व उनके मरम्मत का कार्य शुरू हो जाता है मिल के श्रमिक मरम्मत का कार्य शुरू होने की आस में टक टकी लगाए हुए हैं सुरेंद्र कुमार उर्फ रामजी चौधरी
 संजय सिंह ,अमरिंदर सिंह, रणधीर सिंह, रंजीत दुबे ,अमरजीत दुबे ,भानु पटवा ,राम प्रकाश पाठक, चन्द्ररेश सिंह ,अनिल सिंह, अखिलेश मिश्रा ,राकेश पांडे, शिव सहाय यादव, शिव प्रसाद ,जंग बहादुर, उमाकांत दुबे ,उजागर सिंह, श्री राम ,सत्य प्रकाश दुबे ,वीरेंद्र सिंह ,हरिशंकर, केशव पांडे ,उमेश चौधरी, तुलसीराम चौधरी, संजय चौधरी ,शरद मिश्रा, सुभाष सिंह ,कृष्ण कुमार ,सनातन चौधरी ,सत्यपाल ,अनिल सिंह ,रामजतन, रंगीलाल, आदि श्रमिकों का
का कहना है की अभी तक मरम्मत का कार्य मिल प्रबंधन द्वारा शुरू नहीं किया गया है जिसके कारण मिल चलने के आसार कम ही दिखाई दे रहे हैं।

No comments:

Post a Comment