झंडा गीत के रचयिता की मूर्ति का होगा अनावरण- खुद अनावरण करेंगे राष्ट्रपति - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 5 October 2018

झंडा गीत के रचयिता की मूर्ति का होगा अनावरण- खुद अनावरण करेंगे राष्ट्रपति

ब्यूरो कानपुर -रवि गुप्ता

कानपुर- राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के शहर आगमन में अब 14 घण्टे से भी कम का समय रह गया है जहां जिलाप्रशासन की टीमें राष्ट्रपति के कार्यक्रम आयोजित स्थलों की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटा हुआ है। इसी कड़ी में नर्वल ग्राम में कर्मचारी अपने अपने कार्यो को खत्म करने में तेजी से जुटे हुए हैं







आखिर वह घड़ी आ ही गयी


कानपुर के नर्वल ग्राम में जन्मे झंडा गीत के रचयिता पद्मश्री श्याम लाल गुप्ता पार्षद जी  विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झण्डा ऊंचा रहे हमारा उन्ही के द्वारा लिखा गया यह गीत हम अक्सर स्वतन्त्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के मौके पर सुना करते है और इस गीत को सुनकर अंदर देश के प्रति एक जोश की भावना पैदा होने लगती है। नर्वल में 1997 से पार्षद जी की मूर्ति लगाई तो गयी थी लेकिन आज तक उस मूर्ति का अनावरण नहीं हुआ हमेशा उन्हें उपेक्षा ही मिली। लेकिन जब देश के राष्ट्रपति जो कि खुद भी कानपुर के ही निवासी है उन्होंने इस झंडा गीत के रचयिता के बारे में संज्ञान लिया तब जाकर वह शुभ घड़ी आ गयी और इस झंडा गीत के रचयिता को इतिहास के पन्नो में जीवित रखने के लिए 6 अक्टूबर को खुद महामहिम उनके जन्मस्थल पहुंचकर उनकी मूर्ति का अनावरण करेंगे इस दौरान वह वहां पुस्तकालय का भी उद्घाटन करेंगे।



झंडा गीत के रचयिता श्याम लाल गुप्ता का जन्म 9 सितंबर 1896 को ग्राम नर्वल तहसील कानपुर में दोसर वैश्य परिवार में हुआ था उनके पिता विश्वेश्वर प्रसाद समाजसेवी थे उनकी मां कौशल्या देवी व पिता के दिये हुए संस्कारो के चलते पार्षद जी के अंदर देश भक्ति का जोश अंदर भरा हुआ था  बचपन से ही पार्षद जी को देश भक्ति गीत और देश की महान विभूतियों के बारे में जानकारी प्राप्त करने का उन्हें एक अलग शौक था पार्षद जी की बातों को लोग बापू की आवाज़ मानते थे देश की स्वतंत्रता के लिए उन्होंने स्वतंत्रता सेनानी का दायित्व भी बखूबी निभाया श्याम लाल गुप्ता जी देश की स्वतंत्रता के लिए नँगे पैर ही चलते थे पार्षद जी ने देश को आज़ादी की राह दिखाने वाले क्रांतिकारियों में जोश भरने के लिए पंडित जवाहर लाल नेहरू के आग्रह पर झंडा गीत विजयी विश्व तिरंगा प्यारा झंडा ऊंचा रहे हमारा गीत लिखा था इस गीत को आज भी 15 अगस्त और 26 जनवरी के अवसर पर देश मे सुना जाता है।

तैयारियों को अंतिम रुप देते हुए कर्मचारी



 
छह अक्टूबर को राष्ट्रपति कानपुर के नर्वल ग्राम पहुंचेंगे और वे पार्षद जी की प्रतिमा, उनके पुस्तकालय और स्मारक द्वार का लोकापर्ण करेगें और देश को झण्डा गीत का स्मरण करायेगें।
जिसको लेकर हेलीपेड में रंगाई पुताई और पंडाल में तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment