लखनऊ-कथित प्रगति और खुशहाली की जो चमक-दमक दिखाई जा रही,उसकी सच्चाई और हकीकत से भी लोग वाकिफ हो गए - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 13 October 2018

लखनऊ-कथित प्रगति और खुशहाली की जो चमक-दमक दिखाई जा रही,उसकी सच्चाई और हकीकत से भी लोग वाकिफ हो गए

        Image result for राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी

 
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने कहा है कि भाजपा की केन्द्र और राज्य सरकारों की कलई खुलती जा रही है। इनके दावों का झूठ सरकार के विभाग ही खोल रहे है। देश में चारों ओर कथित प्रगति और खुशहाली की जो चमक-दमक दिखाई जा रही थी उसकी सच्चाई और हकीकत से भी लोग वाकिफ हो गए हैं। भाजपा की विश्वसनीयता समाप्तप्राय है। लोगों का मोहभंग होने के साथ उनमें भाजपा के प्रति गहरा रोष भी है।

डालर के मुकाबले रूपए में भारी गिरावट का रिकार्ड बन गया है। राजकोष घाटा बढ़ता जा रहा है। पेट्रोलियम उत्पादों के दाम आसमान छू रहे हैं। सरकार इनके नियंत्रण में विफल है। उसके हाथपांव फूले हुए हैं। पिछले दो तीन वर्षों में कच्चे तेल का आयात घटने के बजाय बढ़ता गया है। घरेलू स्तर पर कच्चे तेल का उत्पादन कम होने से स्थिति और बिगड़ी है। उज्ज्वला योजना में गरीबों को गैस कनेक्शन देने का खूब शोर मचा लेकिन हालत यह है कि गैस सिलेंडरों के दाम बढ़ने से घरों में गैस के चूल्हें जलना बंद हो रहे हैं।
 
स्टार्ट अप, मेक इन इण्डिया जैसे लुभावने नारों की सच्चाई भी अब छिपी नहीं है। आर्थिक मोर्चे पर देश संकट की स्थिति में आ गया है। मंहगाई फिर से सुरसा की तरह अपना विस्तार कर रही है। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में न्यूनतम दर अंकित हुई है। इसकी रफ्तार लगातार धीमी होती जा रही है। 
 
उत्तर प्रदेश में बड़े तामझाम के साथ ‘इन्वेस्टर्स मीट‘ और ‘समिट‘ के आयोजन हुए, बड़े-बड़े दावे किए गए किन्तु अभी तक कहीं निवेशक की किसी योजना के दर्शन नहीं हुए है। समाजवादी सरकार में जो निवेशक आ रहे थे वे भी अब इस राज्य से मुंह मोड़ रहे हैं। प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ती जा रही है। अब तो मुख्यमंत्री  के सामने ही कोई आत्मदाह का प्रयास करता है तो कोई कमर में चाकू लगाकर उनके मुख्य कार्यालय के सामने ही गाली गलौज और विरोधी नारे लगाकर आराम से चल देता है। पुलिस की गश्त और सुरक्षा का दिवाला पिटता नज़र आता है। 
 
 
सच तो यह है कि केन्द्र और राज्य की सरकारों ने अपना एक मात्र ध्येय लोगों को ज्यादा से ज्यादा परेशान करना बना लिया है। नोटबंदी-जीएसटी से तबाही आई है। आम आदमी को कदम-कदम पर परेशानी उठानी पड़ रही है। भ्रष्टाचार बेलगाम है। अपने को जो बेदाग बताते थे, उनके दाग अब चमकने लगे हैं। जनता ने इनसे निजात पाने के लिए तय कर लिया है कि वह सन् 2019 में सम्पूर्ण सफाया अभियान चलाकर भाजपा को सबक सिखाएगी।

No comments:

Post a Comment