कानपुर- गैंग रेप मामले में तीसरे दिन पीड़िता के पिता आये मीडिया के सामने बताया की आरोपियों को बचाने में जुटी है - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 28 December 2018

कानपुर- गैंग रेप मामले में तीसरे दिन पीड़िता के पिता आये मीडिया के सामने बताया की आरोपियों को बचाने में जुटी है

ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता

बीते दो दिन पहले ग्यारहवीं की नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप के मामले में पीड़ित छात्रा के परिजन मीडिया के सामने आते हुए बताया कि पुलिस गैंगरेप के मामले को एकतरफा रूप दे रही है जिसके चलते छात्रा के बयान के आधार पर आरोपित 3 युवकों को छोड़ दिया है जबकि एक को पुलिस ने जेल भेज दिया है। 
 
 
 
पुलिस की इस कार्यवाई से नाराज़ छात्रा के पिता ने पुलिस के ऊपर सवालिया निशान खड़े कर दिए है कि आखिर तीन आरोपित युवकों को  क्यों छोड़ा गया। पीड़ित छात्रा के पिता राजकुमार सिंह (दरोगा )ने बताया कि छात्रा ने अपनी मां से घटना की जानकारी देते हुए बताया था कि उसकी स्कूल की सहेली निशा ने क्रिसमस की पार्टी के लिए उसे काकादेव स्थित एक मॉल में बुलाया था जहा उसके चार युवा दोस्त पहले से ही मौजूद थे।
 
 
सबने पहले माल में घूमा फिर वहाँ से काकादेव स्थित आभा अपार्टमेंट में छात्रा को लेकर पहुंचे जहां उन्होंने नशीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ रेप की घटना को अंजाम दिया इस घटना के दौरान छात्रा बेहोश हो गयी थी और जब उसे होश आया तो वह अपने आप को खून से लथपथ पाई. इस दौरान छात्रा के साथ रेप करने वाला युवक अनुराग किसी तरह उसे बाइक पर बैठा कर बाबूपुरवा थाना के बाहर फेंक कर फरार हो गया था जिसके बाद हम लोगों ने घटना की जानकारी काकादेव थाने में दी थी वही छात्रा ने भी बयान में सारी बातों को पुलिस से बताया भी था लेकिन इस मामले को पुलिस नया रूप दे रही है पुलिस कहीं न कहीं आरोपियों के साथ मिल गई है जिसके चलते पुलिस ने घटना में नामजद तीन आरोपियों को छोड़ दिया। 
 
जिसमें जैकी ,शुभम और अभिषेक है पुलिस का यह रवैया साफ तौर पर यह दर्शा रहा है कि पुलिस आरोपियों को बचाने में पूरी तरह से लगी हुई है।यह पुलिस विभाग के लिए कलंक की बात है यह कानून की हत्या है हमे अभी तक कोई न्याय नही मिल रहा है।एसएसपी अनंत देव् की पुलिस ने आरोपित युवक अनुराग यादव की जांच में पड़ताल की है जिसमें यह तथ्य सामने आए की वाट्सअप पर दोनों के बीच चैटिंग हुई जिसमें पता चला है की छात्रा अपनी मर्जी से बीटेक छात्र अनुराग से मिलने गयी थी जबकि तीन युवकों के खिलाफ कोई साक्ष्य न मिलने के चलते उन्हें छोड़ दिया गया है .

No comments:

Post a Comment