युवा पीढ़ी का अब कोई भविष्य नहीं बचा ,युवा हताशा में मारे-मारे फिर रहे - अखिलेश यादव - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tahkikat News: Latest Video.

Saturday, 29 December 2018

युवा पीढ़ी का अब कोई भविष्य नहीं बचा ,युवा हताशा में मारे-मारे फिर रहे - अखिलेश यादव

महेंद्र मिश्रा ब्यूरो उत्तर प्रदेश    

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि सबसे युवा पार्टी समाजवादी पार्टी है। परिवर्तन की ताकत युवा पीढ़ी के पास है। स्वतंत्रता आंदोलन और आपातकाल के विरोध में नौजवानों की ही महत्वपूर्ण भूमिका रही हैं। 


अजीब विडम्बना है कि आज राष्ट्रवाद और राष्ट्रभक्ति की बात वे लोग कर रहे हैं जिनकी राष्ट्रीय स्वाधीनता आंदोलन में कोई भूमिका नहीं रही है। उन्होंने नौजवानों का आह्वान किया है कि लोकतंत्र और समाजवाद को बचाने का अवसर उन्हें सन् 2019 और 2022 में मिलने जा रहा है। इस अवसर को नहीं खोना है। यादव आज यहां पार्टी मुख्यालय, लखनऊ के डाॅ0 लोहिया सभागार में नौजवानों को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन, पूर्व मंत्री राजेन्द्र चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल,एसआरएस यादव तथा अरविन्द कुमार सिंह सुनील सिंह साजन, आनन्द भदौरिया एवं डाॅ0 राजपाल कश्यप (एमएलसी) भी मौजूद थे। 
      
अखिलेश यादव ने कहा कि पांच वर्ष आते-आते नौजवान भाजपा सरकार के हाथों ठगा-सा महसूस करने लगे हैं। नौजवान न घर के रहे न घाट के। भाजपा ने नौजवानों के भविष्य के साथ तो खिलवाड़ किया ही है उनका भरोसा भी तोड़ दिया है। युवा पीढ़ी का अब कोई भविष्य नहीं बचा है। यादव ने कहा कि शहरों, कस्बों और गांवों में बेरोजगारी और अर्द्ध बेरोजगारी के शिकार करोड़ो युवा हताशा में मारे-मारे फिर रहे हैं। उपलब्ध आंकड़ों से जानकारी मिली है कि 140 करोड़ भारत की जनसंख्या में आधी आबादी के पास करने को कुछ भी नहीं है। कितने ही नौजवानों ने कुंठा में आत्महत्या तक कर ली है। यादव ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है जिसमें युवा पीढ़ी के भविष्य की कोई संभावना नहीं नज़र आती है। आज युवा पीढ़ी जिस अंधेरे रास्ते पर चलने को मजबूर हुई है उसके लिए सत्ता प्रतिष्ठान सीधे-सीधे जिम्मेदार है। आधी आबादी के लिए कोई रचनात्मक अवसर नहीं रह गया है। भाजपा राज में युवा सबसे ज्यादा दमन और उत्पीड़न के शिकार हुए हैं।    
      
अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा राज में लोकतंत्र को कमजोर करने और असहिष्णु राजनीति को बढ़ाने के लिए नफरत का जह़र फैलाया जा रहा है। जातीय वैमनस्य को बढ़ावा दिया जा रहा है। विविधता भारत की ताकत है उसे तोड़ने का कुचक्र किया जा रहा है। संकीर्णता की राजनीति से जनता ऊब चुकी है। युवा पीढ़ी आक्रोशित है। भाजपा ने अपना एक भी वादा नहीं निभाया है। अब समय आ गया है जब नौजवान करवट लेगा और सन् 2019 को परिवर्तन वर्ष में बदल कर लखनऊ से दिल्ली तक नया रास्ता प्रशस्त करेगा।

No comments:

Post a Comment