अपना दल के संस्थापक एवं पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डा0 सोनेलाल पटेल का 11वाँ शहादत दिवस - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 17 October 2019

अपना दल के संस्थापक एवं पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डा0 सोनेलाल पटेल का 11वाँ शहादत दिवस



अपना दल के संस्थापक एवं पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डा0 सोनेलाल पटेल जी का 11वाँ शहादत दिवस को ‘‘संकल्प दिवस’’ के रूप में प्रदेश के समस्त जिला मुख्यालयों में और अपना दल केन्द्रीय कार्यालय में डा0 पटेल के चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया।

दल के राष्ट्रीय का0 सदस्य एवं प्रवक्ता आर0बी0 सिंह पटेल ने डा0 सोनेलाल पटेल जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज ही के दिन 17 अक्टूबर 2009 को डा0 पटेल की मृत्यु साजिशन सड़क दुर्घटना में हुई थी। जिसकी सीबीआई से जांच कराने की मांग केन्द्र और प्रदेश सरकार से लगातार की जा रही थी। लेकिन सरकारों ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया।

डा0 पटेल गरीबों, मजलूमों, पिछड़ों, दलितों एवं अल्पसंख्यकों की तरक्की की बात हमेशा करते थे। उनका मानना था जब तक इन समाजों की तरक्की नहीं होगी तब तक देश का सम्पूर्ण विकास सम्भव नही है। क्योंकि देश में समतामूलक समाज की स्थापना तभी हो सकती है जब देश में रहने वाली सभी मजलूम जातियों का विकास होगा। डा0 पटेल का मानना था कि देष में समस्त कर्मचारियों एवं अधिकारियों तथा विधायकों एवं सांसदों तथा मंत्रियों को कार्यमुक्त होने के बाद एक निश्चित पेंशन मिलती है लेकिन लोकतंत्र का सच्चा प्रहरी मतदाता जो लोकतंत्र के तहत सरकार बनाने के लिए मतदान करता है जिससे लोकतांत्रिक व्यवस्था चलती है, उसे क्या मिलता है। डा0 पटेल ने कहा था कि मतदाताओं को जीवनरक्षक भत्ता या मतदाता पेंशन दी जाये जिससे उनका भी जीवन स्तर ऊंचा उठ सके। उनका मानना था कि सकल घरेलू उत्पादन का 50 प्रतिशत सरकार देश के विकास में खर्च करें, और 50 प्रतिशत मतदाताओं को मतदाता पेंशन के रूप में देने का काम करें जिससे मतदाता अपनी जरूरतों को पूरा कर सके, और देा के विकास में अपना सहयोग प्रदान करे।

डा0 पटेल का यह भी सपना था कि कृषि एवं किसानों के विकास के लिए कृषि आयोग का गठन, कृषि को उद्योग का दर्जा, कृषि से सम्बन्धित यंत्र लागत मूल्य पर उपलब्ध कराना और भष्टाचार को राष्ट्रद्रोह घोषित कर मृत्यु दण्ड देने की वकालत की थी जिससे भष्टाचारियों के दिलो दिमाग में भय व्याप्त हो जिससे इस देश से भष्टचार खत्म हो। सूखे एवं बाढ़ से निपटने के लिए देश की नदियों को आपस में जोड़कर स्टाप डैम बनाकर जमीन को सिंचित किया जाय, और शिक्षा का राष्ट्रीयकरण किया जाय। पूरे भारत में एक समान शिक्षा लागू की जाय। जिससे गरीब किसानों के बच्चे भी डीएम, एसपी बन सके। 

इस मौके पर केन्द्रीय कार्यालय सचिव राम सनेही पटेल, पूर्व जिला अध्यक्ष रघुबीर सहाय सचान, सुषील निरंजन, अनिल पाल, मोहम्मद नजीर, दिलीप पटेल, शोएब, मो0 रफी आदि लोग मौजूद रहे।           
   

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।