01/09/2020 से अपना अपना पावरलूम अनिश्चित कालीन के लिए बंद कर सरकार से फिर से फ्लैट रैट बिजली की मांग - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 3 September 2020

01/09/2020 से अपना अपना पावरलूम अनिश्चित कालीन के लिए बंद कर सरकार से फिर से फ्लैट रैट बिजली की मांग

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


01/09/2020 से अपना अपना पावरलूम अनिश्चित कालीन के लिए बंद कर सरकार से फिर से फ्लैट रैट बिजली की मांग 

वाराणसी प्लाट रेट बिजली की मांग को ले कर पुरे  उ0 प्र0 के बुनकर दि 01/09/2020 से अपना अपना पावरलूम अनिश्चित कालीन के लिए बंद कर सरकार फिर से फ्लैट रैट बिजली की मांग कर रही है ।  उ0 प्र0 के बुनकरों के साथ बनारस के भी बुनकर अपना पावरलूम पूरी तरह से बंद कर बुनकर अपने परिवार को जिन्दा रखने के लिए सरकार से गुहार लगा रहे है । आज उसी कड़ी में मोहल्ला अमरपुर बटलोहिया  सरैयां के बुनकरो ने भी तख्ती पर स्लोगन के माध्यम से बिजली सब्सिडी फ्लैट रेट बहाल करने की मांग की । आज इस मौके पर पार्षद हाजी ओकास अंसारी ने कहा की आज जीस मुसीबत के दौर से बुनकर गुजर रहा है वो बाय नहीं कर सकते एक तो कोरोना ने पुरे देश वासियो को झगझोर कर रख दिया है पुरे कोरोना काल से बुनकरों का कारोबार एकदम बंद पडा है घर में खाने को कुछ नहीं है ऊपर से बिजली की मार हम बुनकरों पर पद रही है हम सारे बुनकर समाज के लोग सरकार से निवेदन करते है की जिस तरह 2006 से बुनकरों को फ्लैट रेट से बिजली मिलती थी सरकार उसको बदस्तूर जन हिट में जारी रखे क्यू की बुनकारी से हमारे हिन्दू भाई और मुस्लिम भाई दोनों जुड़े है अगर हिन्दू ताना है तो मुस्लिम बाना है और यही भाई चारा और गंगा जमुनी तहजीब बनारस को एक अलग मुकाम पर पुरे देश में ले गयी है जब की पुरे दुनिया में बनारसी साडी मश्हूर है इस कला को अगर बचाना है तो सरकार को दरियादिली दिखाते हुए बुनकरों को जिन्दा रखने केलिए फ्लैट रेट बिजली बुनकरों को देनी चाहिए जिससे फिर से खुशाली आये । आज मोहल्ले के सरदार साहबान और महतो साहबान के। साथ मिल कर बंदी को सफल बनाने के लिए गली गली जा कर बुनकरों का सुक्रिया अदा किये । आज इस मौके पर मौजूद मुमताज़ सरदार । अजीजुल हसन सरदार । अमीरुल्ला महतो । रफीक महतो । मोहम्मद महतो । फारूक अंसारी । समीम अंसारी । मोईन नेता । अब्दुल रब । जुनैद । नेसार अली । सहाबुद्दीन । वकील । हामिद । कमरुद्दीन । मुसद्दक । रमजान अली सामिल थे । 
           

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।