राष्ट्रीय अलंकरण 25 वां काशीरत्न/ शान ए काशी 2020 हेतु प्रविष्टियां 26 दिसम्बर तक - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 16 December 2020

राष्ट्रीय अलंकरण 25 वां काशीरत्न/ शान ए काशी 2020 हेतु प्रविष्टियां 26 दिसम्बर तक

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

राष्ट्रीय अलंकरण 25 वां काशीरत्न/ शान ए काशी 2020 हेतु प्रविष्टियां 26 दिसम्बर तक   


वाराणसी। इण्डियन एसोसिएशन आफ जनर्लिस्ट (आई ए जे) ने संगठन के रजत जयंती वर्ष के अवसान पर 25 वां काशीरत्न/ शान ए काशी 2020 का आयोजन 25 जनवरी 2021 को सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय वाराणसी के सामाजिक विज्ञान विभाग के सभागार में आयोजित किया है।  25 वां काशीरत्न/ शान ए काशी 2020 के चयन हेतु समिति का गठन किया है । जिसमें डा कैलाश सिंह विकास ( संयोजक) तथा चयन समिति के सदस्यगण सर्वश्री काशीरत्न कमालुद्दीन फारूकी, काशीरत्न प्रो शैलेश कुमार मिश्र, काशीरत्न सत्यनारायण व्दिवेदी (एड), काशीरत्न श्रीमती बृजबाला दौलतानी, काशीरत्न पवन रघुवंशी, शान ए काशी डा एस एस यादव (एड),  है।काशीरत्न प्रो राजनाथ, काशीरत्न प्रो दुर्गा नन्दन तिवारी, काशीरत्न डा तुलसी दास मिश्र, काशीरत्न रामबाबू, काशीरत्न श्रीप्रकाश दूबे, प्रदेश,मण्डल, जिला के अध्यक्ष व महामंत्री आमंत्रित सदस्य हैं। ज्ञातव्य हो कि 1996 से अब तक 428 विभूतियों को राष्ट्रीय अलंकरण से अलंकृत आई ए जे ने किया है।                        25 वां काशीरत्न/ शान ए काशी 2020 हेतु पत्रकारिता सेवा, साहित्य सेवा, चिकित्सा सेवा, समाज सेवा, कला संगीत सेवा, विज्ञान सेवा, प्रशासनिक सेवा, सहित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट सेवा प्रदान करने वाले महानुभाव से प्रविष्टियां आमंत्रित हैं। पंजिकृत डाक से डा कैलाश सिंह विकास राष्ट्रीय , अध्यक्ष/ संयोजक , इण्डियन एसोसिएशन आफ जनर्लिस्ट (आई ए जे) भगवान पुर, ( रमेश चक्की के सामने गली में) बी एच यू, लंका वाराणसी मोबाइल 9335438153 पर भेज सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।