बलिया: यातायात के नियमों को जानने के बावजूद सड़क पर मनमानी कर रहे हैं वाहन चालक - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 24 December 2020

बलिया: यातायात के नियमों को जानने के बावजूद सड़क पर मनमानी कर रहे हैं वाहन चालक

बलिया /रसड़ा (माइकल भारद्वाज)-

यातायात के नियमों को जानने के बावजूद सड़क पर मनमानी कर रहे हैं वाहन चालक

बलिया। जनपद बलिया में शासन- प्रशासन की ओर से लगातार अभियान चलाकर यातायात के नियमों की जानकारी दी जा रही है, इसके बावजूद वाहन चालक नियम मानने को तैयार नहीं। यही कारण है कि जनपद में सड़क दुर्घटना में लगातार बढ़ोतरी हो रही हैं। साथ ही सड़कों पर जाम भी लग जा रहा है ।इसका जीता जागता उदाहरण बलिया लखनऊ राजधानी मार्ग पर मंगलवार और बुधवार को देखने को मिला,जिसमें यातायात के नियमों की अनदेखी कर कर गलत दिशा में लोग गाड़ी चला रहे थे। लेकिन आज बुधवार के दिन यातायात के नियमों की अनदेखी करना वाहन चालको के लिए भारी पड़ गया। रसड़ा पुलिस ने दो दिन में लगभग चार दर्जन वाहनों का  ई-चालान कर वाहन चालकों को यातायात नियमों का पालन करने व सही दिशा में चलने का निर्देश दिया। पुलिस की इस कार्यवाही से वाहन चालकों ने ठंड में गर्मी का एहसास होने के बावजूद वाहन स्वामी में सुधार नहीं दिख रहा है।

बलिया जिले के रसडा़ कोतवाली क्षेत्र के नगर में वाहन चालकों को यातायात नियमों का पालन ना करने , गलत दिशा में चलने की वजह से अक्सर रेलवे स्टेशन व बर्फ फैक्ट्री प्यारेलाल चौराहे के समीप जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है ।जिसमें सबसे अधिक परेशानी राहगीरों के अलावा महिलाओं एवं बच्चों को होती है ।कुछ वाहन चालक अपने दुपहिया व चार पहिया वाहन को सड़क पर खड़ा करना ही अपना जन्मसिद्ध अधिकार समझते हैं ।पुलिस पहले इस वाहन चालकों को सही दिशा में चलने वाला करने की चेतावनी दे चुकी है ।लेकिन पुलिस के चेतावनी का कोई असर मुन्सफी तिराहा, हॉस्पिटल कैंपस में होता नहीं दिख रहा है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।