पंचायत चुनाव को लेकर दावेदार जनता को रहे लुभा,खेल रहे जीत-हार का दाँव - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 10 February 2021

पंचायत चुनाव को लेकर दावेदार जनता को रहे लुभा,खेल रहे जीत-हार का दाँव

हंसराज शर्मा बलरामपुर

पंचायत चुनाव को लेकर  दावेदार जनता को रहे लुभा,खेल रहे जीत-हार का दाँव


रेहरा बाजार- मार्च के अंत में जब होली के रंगों का उल्लास होगा।ठीक उसी समय पंचायत चुनाव की खुमारी अपने पूरे शवाब पर होगी।और चुनावी मैदान में उतरे कुछ प्रत्याशियों का रंग-भंग हो चुका होगा।फिलहाल अप्रैल माह में चुनाव के मिले संकेतों के बाद धुआंधार प्रचार में जुटे प्रत्याशी दिन रात एक कर जीत हार की योजना बनाने में जुटे हुए हैं।मतदाताओं को लुभाने में अब तक लाखों रुपए खर्च कर चुके प्रत्याशियों की जेबें ढीली हो चुकी हैं।चुनावी मैदान में उतरे प्रत्याशी बीते मार्च से ही चुनावी तैयारी में जुट गए थे।पहले कोविड-19 संक्रमण काल में पलायन कर अपने घर आने वाले श्रर्मिकों व परदेसियों की आवभगत की फिर उनकी तीमारदारी में लाखों रुपए खर्च कर दिए।उम्मीद थी कि वर्ष 2020 के सितम्बर व अक्टूबर माह में चुनावी वैतरणी पार कर जायेंगे।किन्तु चुनावी तैयारियों के समय से पूरा न कर पाने के कारण चुनावों के तिथियों की घोषणा अब तक नहीं हो पाई है।ऐसे में संभावित प्रत्याशियों को चुनावी समर में उतरे लगभग एक साल हो चुके हैं।वहीं प्रदेश सरकार की ओर से चुनाव को 2021 अप्रेल में करवाने के संकेतों ने प्रत्याशियों की धुकधुकी और बढ़ा दी है।जैसे-जैसे चुनाव आगे बढ़ता जा रहा है।वैसे-वैसे प्रत्याशियों की हालत खस्ता होती जा रही है।प्रत्याशियों के घर शाम को पहुंच कर आवभगत करवाने वालो का सिलसिला जारी है।ऐसे में क‌ई प्रत्याशी हैं जिन पर लाखों रुपए का खर्च चढ़ चुका है।फिलहाल जहां अप्रैल माह में चुनावी संकेतों के बाद दावेदारों की धड़कनें तेज हो गई है वहीं कुछ दावेदार नये आरक्षण नीति के पेंच में फंसे हुए हैं।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।