21 मार्च से शुरू हो जाएंगे गौरा के गवना के लोकाचार - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 18 March 2021

21 मार्च से शुरू हो जाएंगे गौरा के गवना के लोकाचार

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


21 मार्च से शुरू हो जाएंगे गौरा के गवना के लोकाचार

वाराणसी। काशी की लोक परंपरा के अनुसार महाशिवरात्रि पर महादेव और महामाया के विवाह के उपरांत रंगभरी एकादशी की तिथि पर भगवान शंकर, माता पार्वती का गवना कराते हैं। इस उपक्ष्य में महंत आवास चार दिनों के लिए गौरा के मायके में तब्दील हो जाता है। यह परंपरा 356 वर्षों से निरंतर निभाई जा रही है। इस वर्ष रंगभरी एकादशी उत्सव का 357वां वर्ष है।  24 मार्च होने वाली गवना की रस्म से पहले किए जाने वाले लोकाचार की शुरुआत 21  मार्च से टेढ़ीनीम स्थित नवीन महंत आवास पर होगी। यह जानकारी श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के महंत डा. कुलपति तिवारी ने रविवार को टेढ़ीनीम स्थित नवीन महंत आवास पर 18 मार्च दिन गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में दी।

श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के महंत डा. कुलपति तिवारी ने बताया कि 21 मार्च को गीत गवना, 22 मार्च को गौरा का तेल-हल्दी होगा। 23 मार्च को बाबा का ससुराल आगमन होगा। बाबा के ससुराल आगमन के अवसर पर विश्वनाथ मंदिर महंत परिवार के सदस्य श्री ज्योति शंकर त्रिपाठी(शिवाचार्य) व श्रीशंकर त्रिपाठी ‘धन्नी महाराज’ के सयुक्त आचार्यत्व में 11 ब्राह्मणों द्वारा स्वतिवाचन, वैदिक घनपाठ और दीक्षित मंत्रों से बाबा की आराधना कर उन्हें रजत सिंहासन पर विराजमान कराया जाएगा। इस वर्ष होने वाले समस्त धार्मिक अनुष्ठान अंकशास्त्री पं. वाचस्पति तिवारी के संयोजकत्व में महंत परिवार के सदस्यों द्वारा किए जाएंगे। 24 मार्च को मुख्य अनुष्ठान की शुरुआत ब्रह्म मुहूर्त में होगी। भोर में चार बजे 11 ब्राह्मणों द्वारा बाबा का रुद्राभिषेक होगा। सुबह छह बजे बाबा को पंचगव्य से स्नान कराया जाएगा। सुबह साढ़े छह बजे बाबा का षोडषोपचार पूजन होगा। सुबह सात से नौ बजे तक महंत परिवार के सदस्यों द्वारा लोकाचार किया जाएगा। नौ बजे से बाबा का शृंगार आरंभ होगा। बाबा की आंखों में लगाने के लिए काजल, विश्वनाथ मंदिर के खप्पड़ से लाया जाएगा। गौर के माथे पर सजाने के लिए सिंदूर परंपरानुसार अन्नपूर्णा मंदिर के मुख्य विग्रह से लाया जाएगा। टेढ़ीनीम स्थित नवीन महंत आवास के भूतल स्थित हॉल में बाबा को विराजमान कराया जाएगा। पूर्वाह्न 11:30 बजे भोग और महाआरती होगी । राज्य के  धर्मार्थ संस्कृति एवं पर्याटन मंत्री नीलकंठ तिवारी बाबा की आरती करेंगे।  गुरुवार की सुबह उन्होंने फोन करके गली में चल रहे निर्माण कार्य की जानकारी ली और और आश्वासन दिया कि 24 घंटे के अंदर गली का निर्माण कार्य पूरा करा दिया जाएगा। शिवांजलि महोत्सव का उद्घाटन विशिष्ट अतिथि उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के अध्यक्ष, ध्रुपद-ख्याल गायक एवं विश्व कीर्तिमानधारी जलतरंग वादक पद्मश्री डा. राजेश्वर आचार्य पूर्वाह्न 10:30 बजे करेंगे। डा. तिवारी ने बताया कि 24 मार्च को पूर्वाह्न साढ़े दस बजे से शाम साढ़े चार बजे तक काशी ही नहीं देश के जाने माने कलाकारों द्वारा भगवान शिव पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘शिवांजलि’ का आयोजन होगा। इस वर्ष शिवांजलि में काशी के रुद्रनाद बैंड के कलाकारों द्वारा गायन, वादन और नृत्य की प्रस्तुतियां की जाएंगी। रुद्रनाद बैंड की ओर से शिव को समर्पित गीतों की रिलीजिंग ‘शिवांजलि’ के मंच से होगी। बाबा के गौना के लिए 151 किलो गुलाब का अबीर खासतौर से मथुरा से मंगाया गया है। इससे पहले बाबा की पालकी पर उड़ाने के लिए 51 किलो अबीर मथुरा से मंगाया जाता था। विगत 357 वर्षों के इतिहास में यह दूसरा मौका है जब बाबा की पालकी को मंदिर तक पहुंचाने के लिए पहले की तुलना में कहीं अधिक दूरी तय करनी होगी। पहले मंदिर और महंत आवास आमने-सामने होने के कारण मात्र 25 से 30 कदम चलना होता था। बीते वर्ष से टेढ़ीनीम से साक्षी विनायक, कोतलवालपुरा, ढुंढिराज गणेश, अन्नपूर्णा मंदिर होते हुए बाबा की पालकी मुख्य द्वार से विश्वनाथ मंदिर में प्रवेश करने लगी है। यह दूरी कम से कम साढ़े चार सौ मीटर होगी। पालकी यात्रा में डमरूदल और शंखनाद करने वाले 108 सदस्य भी शामिल होंगे। नादस्वरम् और बंगाल का ढाक भी बाबा की पालकी यात्रा में गूंजेंगे। पत्रकारवार्ता में मौजूद शिवांजलि के प्रबंधक संजीव रत्न मिश्र ने बताया कि पं. अमित त्रिवेदी और कन्हैया दूबे ‘केडी’ को कार्यक्रम समन्वयक बनाया गया है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों का संचालन एएम. ‘हर्ष’ द्वारा किया जाएगा। 



No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।