डीएवी पीजी कॉलेज सामूहिकता का सर्वश्रेष्ठ सिद्धांत - डॉ. मिश्रीलाल - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 23 March 2021

डीएवी पीजी कॉलेज सामूहिकता का सर्वश्रेष्ठ सिद्धांत - डॉ. मिश्रीलाल

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


डीएवी पीजी कॉलेज सामूहिकता का सर्वश्रेष्ठ सिद्धांत - डॉ. मिश्रीलाल

वाराणसी। डीएवी पीजी कॉलेज के राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में चल रहे सात दिवसीय विशेष शिविर का दूसरा दिन विश्व जल दिवस पर आधारित रहा। तीन सत्रों में संचालित सत्र की शुरुआत एनएसएस ताली और लक्ष्य गीत के साथ हुई। सत्र के मुख्य अतिथि डॉ.मिश्री लाल यादव ने  स्वयंसेवकों को राष्ट्रीय सेवा योजना का महत्व बताया और राष्ट्रीय सेवा योजना को 'सामूहिकता का सिद्धांत' कहा। उन्होंने स्वयंसेवकों से विवेकानंद और महात्मा गांधी के आदर्श सिद्धान्तों को आत्मसात करने पर भी बल दिया। 
 दूसरे सत्र में मुख्य अतिथि डा.सरिता मिश्र-ज़िला समन्यवयक फ़ाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम,वाराणसी रही।उन्होंने फ़ाइलेरिया से बचाव के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही सरकारी और ग़ैर सरकारी योजनाओं के विषय में स्वयंसेवकों से विस्तार से चर्चा की और स्वयंसेवकों को जागरूक किया। विशिष्ट वक़्ता डा.विनोद कुमार चौधरी रहे उन्होंने आज़ादी के अमृत महोत्सव को ध्यान में रख कर स्वतंत्रता आंदोलन एवं वर्तमान व्यवस्था पर प्रकाश डाला।
शिविर के तीसरे सत्र में भारत की आज़ादी के अमृत महोत्सव के निमित्त स्वयंसेवकों द्वारा देश की आज़ादी के आंदोलन और विश्व जल दिवस केंद्रित  भाषण प्रतियोगिता कार्यक्रम हुआ तथा स्वरचित कविता पाठ का कार्यक्रम भी हुआ।
    कार्यक्रम अधिकारी डा.शिवनारायण ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह और पौधा प्रदान कर स्वागत किया। संचालन डा.नज़मुल हसन एवं धन्यवाद ज्ञापन डा.मीनू लाकड़ा ने किया। इस अवसर पर कार्यक्रम अधिकारी डॉ. अखिलेन्द्र कुमार सिंह, डॉ. प्रतिमा गुप्ता, डॉ. सिद्धार्थ सिंह, डॉ. राकेश मीना, डॉ. शशिकांत यादव आदि रहे।



No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।