शिक्षक भर्ती न होने के विरोध में काला दिवस मनाया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 3 June 2021

शिक्षक भर्ती न होने के विरोध में काला दिवस मनाया

ब्यूरो कानपुर देहात:अरविन्द शर्मा


शिक्षक भर्ती न  होने के विरोध में काला दिवस मनाया


डीएलएड/बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके प्रशिक्षु जो टेट/सीटेट उत्तीर्ण कर चुके हैं अभी तक उनके लिए शिक्षक भर्ती नहीं आई। इसके विरोध में प्रशिक्षुओं ने आज काला दिवस मनाया और 97000 शिक्षक भर्ती लाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन उपजिलाधिकारी को दिया।
            
कानपुर देहात। डीएलएड प्रशिक्षुओं जनपद के रसूलाबाद  क्षेत्र में नई शिक्षक भर्ती जारी न होने से नाराज होकर काला दिवस मनाया और हाथ व सिर पर  काली पट्टी बांधकर विरोध जताया। तहसील मुख्यालय पर पहुंच कर डीएलएड बीटीसी प्रशिक्षुओं ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन उप जिलाधिकारी अंजू वर्मा को दिया।  डीएलएड संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा के जिलाध्यक्ष  मो. हारून ने बताया कि डीएलएड बीटीसी प्रशिक्षु अपना प्रशिक्षण 2 वर्ष पूर्ण कर चुके हैं और यूपीटेट सीटेट भी उत्तीर्ण कर चुके हैं। उत्तर प्रदेश के विभिन्न प्राथमिक विद्यालयों में करीब 97000 शिक्षकों के पद रिक्त पड़े हैं। बावजूद इसके बीते 2 वर्षों से कोई नई शिक्षक भर्ती नहीं आई। जिससे युवा प्रशिक्षु परेशान है और बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं। संगठन के जिला उपाध्यक्ष कवींद्र प्रताप सिंह ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार हम युवाओं के हित को ध्यान में रखते हुए अति शीघ्र 97000 नई शिक्षक भर्ती का विज्ञापन जारी करें। यदि जल्दी विज्ञापन जारी नहीं होता है तो हम सभी प्रशिक्षु आंदोलन के लिए विवश होंगे। वही विरोध करने वालों में प्रमुख रूप से आशुतोष त्रिपाठी , अभिषेक तिवारी, रश्मि कुशवाहा,  अजीत सिंह, हरिओम शर्मा,सौम्या सिंह,शिवम दुबे,अशहर खुर्शीद,कुलदीप सिंह,ज्योति त्रिवेदी,ऋषि कुमार रहे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।