व्याख्यानमाला में जुड़े देश भर के राजनीति विज्ञान के विद्वान - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 21 June 2021

व्याख्यानमाला में जुड़े देश भर के राजनीति विज्ञान के विद्वान

कैलाश सिंह विकास वाराणसी


व्याख्यानमाला में जुड़े देश भर के राजनीति विज्ञान के विद्वान

वाराणसी, 20 जून। डीएवी पीजी कॉलेज के राजनीति विज्ञान विभाग के तत्वावधान में चल रहे ऑनलाइन व्याख्यान माला में राजनीति शास्त्र के कई विद्वानों ने सहभागिता की। दयाल सिंह कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. विजय कुमार वर्मा ने कहा कि वर्तमान पीढ़ी के लोग दिल से पूंजीवादी है परन्तु दिमाग से समाजवादी होते है जिसमे लोगो मे ज्यादा से ज्यादा धनार्जन करने की प्रवृत्ति जन्म लेती है। उन्होंने यह भी कहा कि अब कलम को आजाद और जीभ को मुखर होने की आवश्यकता है। इसके अलावा उन्होंने कार्लमार्क्स के व्यवहारिक पक्ष से भी सबको रूबरू कराया। अन्य सत्र में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अभिनव शर्मा ने लोक प्रशासन और समाज, प्रोफेसर पी.के. पारीदा ने सरकार की सार्वजनिक नीतियों पर विशिष्ट व्याख्यान दिया। जेएनयू की डॉ. अंशु जोशी ने लैटिन अमेरिका में हुए संघर्ष पर, प्रोफेसर टीपी सिंह ने भारत नेपाल मे हुई क्रांति के लिए हिंसा पर तथा एमिटी यूनिवर्सिटी के डॉ. एस.के. पाठक ने भारतीय लोकतंत्र और नागरिकों के विषय पर विस्तृत व्याख्यान से प्रतिभागियों को अवगत कराया। इसके अलावा पण्डित दीनदयाल एनर्जी विश्वविद्यालय, गुजरात के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. सीताकांत मिश्र ने भारत की परमाणु नीति पर अपनी राय रखी। 
महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सत्यदेव सिंह ने सभी प्रतिभागियों को शुभकामना दी। अध्यक्षता प्रोफेसर शिव बहादुर सिंह तथा संयोजन डॉ. स्वाति सुचरिता नंदा ने किया। 
संचालन डॉ. प्रतिमा गुप्ता, स्वागत सुश्री प्रियंका सिंह तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ. राकेश कुमार मीणा ने दिया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने सहभागिता की।



No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।