पुर्वमंत्री ओमप्रकाश राजभर को महंगाई के विरोध में धरना देने से रोक रही सरकार- सर्किट हाउस में ही बैठेंगे धरना पर- शशिप्रताप सिंह - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 21 July 2021

पुर्वमंत्री ओमप्रकाश राजभर को महंगाई के विरोध में धरना देने से रोक रही सरकार- सर्किट हाउस में ही बैठेंगे धरना पर- शशिप्रताप सिंह

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

 
 पुर्वमंत्री ओमप्रकाश राजभर को महंगाई के विरोध में धरना देने से रोक रही सरकार- सर्किट हाउस में ही बैठेंगे धरना पर- शशिप्रताप सिंह

प्रशासन नही दियाअनुमति शास्त्री घाट पर बैठने का

मालूम हो कि सुभासपा राष्ट्रीय अध्यक्ष/  पूर्व मंत्री  ओमप्रकाश राजभर जी बढ़ती महंगाई के खिलाफ    धरना देना तय था 22 जुलाई को शाश्त्री घाट पर। लेकिन प्रशासन ने 144 धारा लगा दिया। जब परमिशन के लिये आवेदन किया गया तो सीधे मना कर दिया 
 प्रदेश उपाध्यक्ष सुभासपा शशिप्रताप सिंह ने बताया कि ओमप्रकाश राजभर भाजपा की पोल खोल देते महंगाई के सवाल पर, ओमप्रकाश राजभर के धरने पर बैठने के नाम सुन भाजपा घबरा गई है इस लिये धारण को रोकने के हर तरह के हथकंडे अपना रही है।

 शशिप्रताप सिंह ने बताया कि ओमप्रकाश राजभर 22 जुलाई को आएंगे और हम लोग बिना प्रमिसन के शांतिपूर्ण तरीके से शाश्त्री घाट बनारस पर राष्ट्रीय अध्यक्ष की अगुआई में धरना जरूर देगे 
सुभासपा के कार्यकर्ता अब जेल भी जाने को तैयार है।
 हजारों कार्यकर्ताओ सुबह 08 बजे से ही शाश्त्री घाट पर आना सुरु करेगे अगर रोका गया तो सर्किट हाउस में ही धरना पर बैठ जायेगे।
 प्रदेश उपाध्यक्ष शशिप्रताप सिंह ने बताया भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ बढ़ती बेरोजगारी महंगाई जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में हुए धांधली नारी उत्पीड़न कानून व्यवस्था ध्वस्त लोकतंत्र की हत्या के सवाल पर वाराणसी में धरना प्रदर्शन जरूर होगा
भाजपा बिना अनुमति के कुछ भी कर सकती है तो सुभासपा भी प्रदर्शन के लिये बाध्य है। कार्यकर्ताओ की सुरक्षा की जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।



No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।