किसानों के खेतों तक पानी ले जाने वाली सिंचाई विभाग की नाली पर डूडा ने किया कब्जा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 4 July 2021

किसानों के खेतों तक पानी ले जाने वाली सिंचाई विभाग की नाली पर डूडा ने किया कब्जा

मोहित गुप्ता बस्ती रूधौली

किसानों के खेतों तक पानी ले जाने वाली सिंचाई विभाग की नाली पर डूडा ने किया कब्जा

कर्मचारियों व ठेकेदारों ने बजट में गोलमाल करने का नया तरीका निकाला 

बस्ती रुधौली। स्थानीय नगर पंचायत में जिला शहरी विकास अभिकरण (डूडा) ने नगरीय क्षेत्रों में विकास कार्यों में बजट को गोलमाल करने का नया तरीका ढूंढ निकाला। इस के क्रम ठेकेदार द्वारा पुरानी बनी नालियों को दुरुस्त कर उसे नए के रूप में दिखाकर बजट चुरा लिया जाता है और बचत का कमीशन संबंधित अधिकारियों से लेकर सफेदपोश जिम्मेदारों तक बढ़ता है।
        ताजा मामला रुधौली नगर पंचायत के शांति नगर वार्ड में निर्माणाधीन इंटरलॉकिंग व नाली निर्माण कार्य में देखा जा सकता है। यहां डूडा के द्वारा देव कुमारी पांडेय के घर से रामबोध के घर तक 200 मीटर कार्य के लिए 14.68 लाख की बजट से इंटरलॉकिंग व नाली निर्माण कार्य की स्वीकृति मिली। निर्माण कार्य शुरू करने के साथ ही निर्माण कार्य के जिम्मेदारों द्वारा अपना खेल भी शुरू कर दिया गया और वार्ड में बरसों पूर्व किसानों के खेतों में पानी पहुंचाने के लिए बिछाई गई सिंचाई विभाग के नाली पर कब्जा कर उसे डूडा की नई नाली घोषित करने का प्रयास किया जा रहा है। कब्जे के क्रम में जिम्मेदारों द्वारा सिंचाई विभाग के नाले के ऊपर लगभग तीन परत की दोयम दर्जे की ईंट जोड़कर उसे कब्जे में ले लिया गया है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या जिस नाली के माध्यम से किसानों के खेतों में नलकूप विभाग का ताजा पानी जाता था अब उस नाली में घरों के गंदा पानी गिर कर खेतों में जाएगा या नगर पंचायत अथवा डूडा किसानों के खेतों तक पानी पहुंचाने के लिए दूसरी नई नाली बनाएगी?
इस संबंध में नगर अधिशासी अधिकारी हनी सिंह का कहना है कि ठेकेदार द्वारा यदि ऐसा किया जा रहा है तो पूरी तरह से गलत है मामले में जांच करवाकर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। 

प्रथम पंचवर्षीय कार्य काल से ही चली आ रही है सिंचाई विभाग की नाली:
प्रकरण में नाम न छापने की शर्त पर संबंधित विभाग के एक जिम्मेदार ने बताया कि सिंचाई विभाग की यह नाली प्रथम पंचवर्षीय कार्यकाल में किसानों के हित के लिए बनाई गई थी, जिस पर डूडा द्वारा कब्जा किया जाना पूरी तरह से गलत है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।