Test Ad
संगीतमय श्री रामकथा के सातवां दिन का लोगों ने लिया आनंद

संगीतमय श्री रामकथा के सातवां दिन का लोगों ने लिया आनंद

कैलाश सिंह विकास वाराणसी 


   वाराणसी। अखिल भारतीय सनातन समिति, जैतपुरा द्वारा मां बालेश्वर देवी के प्रांगण में आयोजित संगीतमय रामकथा के सातवें दिन आज प्रवचन में पातालपुरी पीठाधीश्वर पूज्य बालक दास जी महाराज मानस मराल ने कहा कि राजा को दिए गए दो वरदान में पहला भरत को राजगद्दी एवं राम को चौदह वर्ष का वनवास मांग लो, इसी में तुम्हारा व भरत की भलाई होगी। यह बात कैकई को काल के बस बहुत ही अच्छी लगी। उसने ऐसा ही किया यह बात जब राजा को पता लगा तो वह बहुत ही दुखी हुए, परंतु रानी को दशरथ जी की हर बात अप्रिय लगने लगी। तब उन्होंने राम को चौदह वर्ष का वनवास व भरत को राजगद्दी देने की बात बड़े ही दुखी मन से आदेश दिया। राजा के इस आदेश का राज दरबार व नगर निवासी बहुत ही नाखुश हो गए। अंत में राम के वनवास जाने के बाद राजा स्वर्ग सिधार गए, तब भरत जी ननिहाल से आकर तीनों रानियों व नगर निवासियों के साथ चित्रकूट में कामदगिरि पर्वत पर प्रभु श्री राम को मनाने निकल पड़े। परन्तु शास्त्र के अनुसार बहुत प्रकार से राम के समझाने के बाद भरत जी प्रभु श्री राम की खड़ाऊ लेकर अयोध्या वापस आ गए।

    इस अवसर पर काशी के मानस वक्ता पंडित शिवाकांत मिश्र ने बड़े ही भावपूर्ण ढंग से मानस की चर्चा की तथा रामकथा के इस आयोजन से जहां हिंदू संस्कृति खुलेगी, वहीं धर्म का प्रचार - प्रसार अनवरत होते रहना चाहिए।व्यासपीठ की आरती भैयालाल जायसवाल, डॉ अजय कुमार, प्रमोद यादव मुन्ना, डॉ पुष्पा जायसवाल, मुन्नू लाल, छेदीलाल, राजेंद्र कुमार, सुजीत कुमार, जयशंकर गुप्ता, किशोर सेठ, अभय स्वाभिमानी, दिव्यांश गुप्ता आदि ने की।

    मंच का संचालन प्रधान सचिव राजेश सेठ ने किया।

संगीतमय श्री रामकथा के सातवां दिन का लोगों ने लिया आनंद
Admin
Share: | | |
Comments
Leave a comment

Advertisement

Test Sidebar Ad
Search

क्या है तहकीकात डिजिटल मीडिया

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।

Videos


" frameborder="0" class"c large aligncenter" style="border:none;">

" frameborder="0" class"c large aligncenter" style="border:none;">
Get In Touch

Call Us:
9454014312

Email ID:
tahkikatnews.in@gmail.com

Follow Us
Follow Us on Twitter
Follow Us on Facebook

© Tehkikaat News 2017. All Rights Reserved. Tehkikaat Digital Media Pvt. Ltd. Designed By: LNL Soft Pvt. LTD.