गौर /बस्ती-हिन्दू -मुस्लिम और पूजा -पाठ से समय मिले तो इधर भी ध्यान दें साहब ..... - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 7 February 2018

गौर /बस्ती-हिन्दू -मुस्लिम और पूजा -पाठ से समय मिले तो इधर भी ध्यान दें साहब .....


ग्राउंड रिपोर्ट -
बब्लू  यादव ;


देश के लोग हिन्दू -मुस्लिम का खेल खेलने वाले नेताओं ,बन्दे मातरम ,पद्मावत ,तिरंगा ,जय हिन्द बोलकर गुमराह करने वाले महानुभाओं के साथ भीड़ का हिस्सा बनकर अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार रहे हैं। और वही जिम्मेदार लोग  शोषित ,वंचित ,गरीब लोगों को बेहतर चिकित्सा योजना से जोड़ने के नाम पर सरकारी खजाने से  लाखो -करोडो डकार रहे हैं ,अभी लोग इस इस कदर अज्ञानता के आगोश में जी रहे हैं कि वे अपने ही जरुरत के लिए आवाज नहीं उठा पा रहे हैं बल्कि निराधार मुद्दों को लेकर जान पर खेलने के लिए तैयार हैं ,जिसका परिणाम है कि बहुसंख्यक आबादी स्वास्थ्य जैसे आवश्यक सेवाओं से भी उपेक्षित हैं। 


ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ कराने के उद्देश्य से सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयास जिम्मेदार लोगों द्वारा की जा रही लापरवाही के भेंट चढ़ता  जा रहा है । सरकार द्वारा टीकाकरण के लिए जगह-जगह स्वास्थ्य उप केंद्र भवनों का निर्माण कराया गया है। लेकिन शासन -प्रशासन के उदासीनता के चलते बनाये गए भवन बदहाली के रास्ते पर जाते दिखाई दे रहे हैं 

     गौर ब्लॉक के बेलहिया में बना उप केंद्र 

गौर विकास खंड क्षेत्र बरगदिहिया एवं बेलहिया  में स्वास्थ्य विभाग द्वारा एएनएम सेंटर का निर्माण कराया गया था। लेकिन आज तक यंहा पर किसी जिम्मदार को आते नहीं देखा गया इतना ही नहीं उचित  देख-रेख के अभाव में वर्तमान समय में भवन की हालत बहुत ही खराब हो चुकी है। परिसर के अंदर जहां बड़ी-बड़ी झाड़ियां उग आई हैं, वहीं बाहर चारों ओर गंदगी का अंबार लगा है। लंबे अर्से से विभाग द्वारा परिसर के अंदर या बाहर साफ-सफाई नहीं कराई गई है। 
ब्लॉक क्षेत्र के बरगदहिया में बना उप केंद्र 

इस तस्वीर को देखने के बाद आप यह कहेंगे कि  यह सरकारी भवन है ,परन्तु यह जानना जरुरी है कि यह आम भवन नहीं है यंहा खासकर महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य सम्बन्धी दवा एवं टीकाकरण का कार्य होना चाहिए ,यंहा पर महिलाओं को स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारियां देने के लिए जिम्मेदार लोगों की तैनाती होनी चाहिए ,यंहा पर महिलाओं को माहवारी के स्वास्थ्य को लेकर सैनेटरी पैड का वितरण होना चाहिए ,गर्भवती महिलाओं को खान -पान एवं वर्ताव को लेकर सही जानकारियां मिलनी चाहिए। ऐसी बहुत सारी जानकारियां यंहा से महिलाओं को मिलनी चाहिए मगर जिम्मेदार लोगों की निरंकुशता के चलते सब कुछ बेकार है। 

बड़ा सवाल यह है कि जब इन भवनों में किसी की तैनाती नहीं करनी थी तो शासन द्वारा यह योजना बनाया क्यों गया ?दूसरा सवाल स्वास्थ्य विभाग पर भी खड़ा होता है कि लाखो रुपया साफ -सफाई के नाम पर ये प्रति वर्ष व्यय करते हैं वह पैंसा कहां खर्च  हो रहा है ?इन बड़ी विसंगतियों को देखते हुए देश के उन आबादी को अपने लिए आगे आना होगा जो झूठ -फरेब के जाल  में फंस कर अपना ही नहीं अपनी आगे वाली पीढ़ी के जीवन को भी खतरे में धकेल रहे हैं। 


No comments:

Post a Comment