बीजेपी विधायक का विवादित बयान ,नेहरू खाते थे गाय और सूअर - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 11 August 2018

बीजेपी विधायक का विवादित बयान ,नेहरू खाते थे गाय और सूअर

विश्वपति वर्मा _

 अपने विवादित बयानों के लिए मशहूर भारतीय जनता पार्टी के विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है. भारतीय जनता पार्टी में ऐसे कई नेता हैं जो समय-समय पर विवादित बयान देकर सुर्खियों में बने रहते हैं, उन्हीं में से एक हैं राजस्थान से आने वाले बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा, जिन्होंने इस बार देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को लेकर एक नया 'ज्ञान' दिया है.

 ज्ञानदेव आहूजा ने जवाहर लाल नेहरू के आगे पंडित शब्द लगाने पर आपत्ति जताई है. ज्ञानदेव आहूजा के मुताबिक, जवाहर लाल नेहरू पंडित नहीं थे. राजस्थान के रामगढ़ से भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने पंडित जवाहर लाल नेहरू पर हमला बोला और कहा कि ''जवाहर लाल जी नेहरू पंडित नहीं थे, जो गाय का मांस खा जाए, जो सुअर का मांस खा जाए. सुअर मुसलमानों के लिए नापाक है, गाय हमारे लिए पवित्र है. जो बाकी जीव-जानवरों को खा जाए. वो कभी पंडित नहीं थे, लेकिन उनके आगे ब्राह्मन को जोड़ा गया.'' 


दरअसल, बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा इससे पहले भी कई सारे विवादित बयान दे चुके हैं. राजस्थान के अलवर जिले के रामगढ़ से बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा गो तस्करी के बढ़ते मामलों और गोरक्षा के नाम पर हमलों को लेकर भी विवादित बयान दे चुके हैं. विधायक आहूजा ने कहा था कि तस्करी करोगे, गो-कशी करोगे तो यूं ही मरोगे.

इससे पहले ज्ञानदेव आहूजा ने जेएनयू को लेकर भी बयान दिया था. उन्‍होंने कहा था कि जेएनयू में रोजाना 3000 बीयर की बोतलें, 2000 शराब की बोतलें, 10 हजार सिगरेट के टुकड़े, 4 हजार  बीड़ी, 50 हजार हड्डियों के टुकड़े, 2 हजार चिप्स के पैकेट, 3 हजार उपयोग किए गए कंडोम और 500 गर्भपात के इंजेक्शन मिलते हैं.

 63 वर्षीय आहूजा ने कहा कि कंडोम हमारी बहनों और बेटियों के साथ 'गलत काम' के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं. दरअसल, राजस्थान में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसलिए अब नेताओं की ओर से बयानबाजियों का दौर शुरू हो जाएगा. भारतीय जनता पार्टी में विवादित बयान देने वाले नेताओं की एक लंबी फेहरिस्त है, जो समय-समय पर ऐसे बयान देते रहते हैं

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।