कानपुर -प्रदेश के मंत्री सतीश महाना ने किया बाढ़ ग्रसित इलाको का दौरा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 8 September 2018

कानपुर -प्रदेश के मंत्री सतीश महाना ने किया बाढ़ ग्रसित इलाको का दौरा


जिला संवाददाता -रवि तहकीकात न्यूज़ कानपुर 

बाढ़ से आई तबाही के बाद प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सतीश महाना ने बाढ़ ग्रसित इलाके का दौरा किया और ग्रामीणों से उनका हाल जाना। इस दौरान केबिनेट मंत्री सतीश महाना ने बाढ़ राहत सामग्री का वितरण भी किया वहीं कानूनगो अधिकारी अशोक मिश्रा से हालातो का जायज़ा लिया और अधिकारी अपनी बातों में मंत्री को घुमाने लगे. तो उन्हें जमकर फटकार भी लगाई।  उनका कहना था कि यहां बढ़ राहत शिविरों में बाढ़ पीड़ितों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो इसका विशेष ध्यान रखें। और उन्हें हर संभव मदद दी जाये।


सतीश महाना ने बताया कि बाढ़ से 15 मज़रे प्रभावित है जिनमे करीब दो दर्जन गांव  के लगभग शामिल है। सरकार के दवारा बाढ़ पीड़ितों की पूरी मदद की जा रही है। वही बाढ़ से प्रभावित लोगो के लिए प्रशासन के साथ साथ यहां पर समाजसेवी संस्थाए स्वप्रेरणा से आगे खड़ी है.बाढ़ पीड़ितों को हर संभव मदद दी जा रही है। जिन किसानों की खेती बर्बाद हुई है उनके  मुआवजा की बात की जाएगी।





पुलिस कर्मियों ने बाढ़ ग्रसित क्षेत्रो को बनाया पिकनिक स्पॉट ,


बाढ़ से आई तबाही के बाद जहा किसान और उनका परिवार बेघर होकर रोड पर टेंट ;लगाकर जीवन यापन कर रहा है तो वही कुछ पुलिस कर्मियों के लिए यह एक पिकनिक स्पॉट बन गया है और यहां पर सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मी अपनी डियूटी के समय आराम फार्मा रहे है तहकीकात न्यूज़ टीम ने जब इसका रिएल्टी चक किया तो बाढ़ शिविरों के पास सुरक्षा में लगे पुलिस कर्मी अलग- अलग अंदाज में दिखाई दिए .एक महाशय कुर्सी में आराम से बैठे हुए मशाला खाते हुए दिखाई दिए .जबकि सार्वजनिक स्थान पर ध्रूमपान करना सख्त मना है वही दूसरे साबह तो बाकायदा पीड़ितों के तखत पर आराम करते हुए नजर आये।  इससे एक बाद तो साफ़ है की आखिर यह डियूटी है की फिर पिकनिक स्पॉट।



वही एक तरफ बाढ़ पीड़ित छात्रा अपना भविष्य बनाने के लिए टेंट के नीचे बैठी हुई अपनी पढाई करती हुई नजर आई। जब तहकीकात न्यूज़ टीम ने उस छात्रा से बात की तो उसने बताया की उसका नाम जोति है और वह कक्षा आठ की छात्रा है और बाढ़ ग्रसितगांव बनियापुरवा में रहती है पिछले आठ दिनों से वह यहां पर रह रही है क्योकि उसके घर में पानी भर गया है वही उसका  स्कूल प्राथमिक विध्यालय जोकि गांव में है उसमे पढ़ती है स्कूल में पानी भर गया है लेकिन उसके टीचर अब उन्हें स्कूल में नहीं बल्कि रोड के किनारे खुले आसमान के नीचे  सुबह आठ से ग्यारा बजे तक पढ़ते है उसने बताया की वह पढ़ लिख कर पुलिस अधिकारी बनेगी और समाज की सेवा करेगी।

No comments:

Post a Comment