कानपुर-शौर्य दिवस के रूप में मनाई गई सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 29 September 2018

कानपुर-शौर्य दिवस के रूप में मनाई गई सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ

जिला संवाददादता रवि तहकीकात न्यूज़

सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ के अवसर पर आज भाजपा कार्यकर्ताओ ने मोतीझील अमर जवान पर इस दिवस को शौर्य दिवस के रूप में मनाया। जहां स्कॉउट गाइड के बच्चों को समिल्लित कर सैनिकों को नमन करते हुए बच्चो द्वारा आर्मी बेंड बजाकर इस पराक्रम और शौर्य दिवस को मनाया गया।











यह देश की वीरता और गौरव का परिचय है

29 सितंबर 2016 की रात भारतीय सेना ने दुनिया को अपनी ताकत दिखाते हुए बता दिया था कि भारत कमजोर नहीं है सेना ने उस दिन अपनी ताकत का लोहा मनवा कर बता दिया था कि घुसपैठियों के रूप में आने वाले आतंकवादियों के देश मे तबाही मचाने को बर्दशत नही किया जाएगा। उरी में सेना के ठिकाने पर हमले के जवाब में भारतीय सेना ने 29 सितंबर 2016 को नियंत्रण रेखा के पार जाकर आतंकवादियों के ठिकानों और बंकर को तबाह करने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की थी।



रक्षा मंत्री ने पिछले सप्ताह कहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर 28 से 30 सितंबर तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को जोधपुर सैन्य अड्डे के बैटल एक्स मैदान में पराक्रम पर्व प्रदर्शनी का उद्घाटन किया था इसी कड़ी में कानपुर में भी सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ भाजपाइयों द्वारा आयोजित की गयी।देश की सेना द्वारा आतंकियों और उनके सर-परस्त पकिस्तान सेना के खिलाफ 2 साल पहले हुई सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्ष गाँठ पर आज भारतीय जनता पार्टी द्वारा शहर के मोतीझील स्थित अमर जवान ज्योति स्थल पर सैनिको को नमन कर स्काउट गाइड के बच्चों द्वारा आर्मी बैंड बजाकर शौर्य दिवस के रूप में मनाया गया और शहीदों को नमन किया गया।

भाजपा जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र मैथानी ने बताया की जिस तरह शौर्य और पराक्रम दिखाकर भारतीय सेना के जवानो ने दो साल पहले जो पाक सैनिको की नापाक हरकतों को उनके घर में घुसकर मुहतोड़ जवाब दिया था जिसके बाद पकिस्तान बौखला गया था आज उसके दो वर्ष पूर्ण होने पर सेना के जवानो के पराक्रम और उनका मनोबल बढाए जाने के लिए यह कार्यक्रम किया गया है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।