फर्रुखाबाद-देश मे सेना द्वारा आतंकवाद के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ मनाया गया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 29 September 2018

फर्रुखाबाद-देश मे सेना द्वारा आतंकवाद के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ मनाया गया


जिला संवाददाता- पुनीत मिश्रा
 
 फर्रुखाबाद-देश मे सेना द्वारा आतंकवाद के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर पराक्रम दिवस के रूप में मनाया गया इस अवसर पर सेना में कई कार्यक्रम हुए जिसमें आर्मी पब्लिक स्कूल केंद्रीय विद्यालय के बच्चों को रिक्रूटिंग एरिया में रुक रूटिंग तेरी एरिया में घुमाया गया उन्हें इंप्रूव एक्सप्लोसिव डिवाइस और हथियारों के बारे में जानकारी दी गई म्यूजियम में  सेना के गौरवशाली इतिहास परंपरा का युद्ध सामग्री एवं वेशभूषा तथा अनुशासन के बारे में बताया गया सिख लाइक ए डी कमांडेंट कर्नल ए के मोहल्ला ने बच्चों को सेना के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी सर्जिकल स्ट्राइक के विषय में बताया वहीं दूसरी ओर स्टेट बैंक फतेहगढ़ सिख लाइट ब्रांच ने केंद्रीय विद्यालय में एक चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया जिसके विषय थे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ स्वच्छ भारत एवं पर्यावरण कक्षा 1 से लेकर 3  तक के बच्चों ने इसमें भाग लिया प्रत्येक कक्षा के फर्स्ट सेकंड और थर्ड विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए।


 आरआरसी के सेंटर कमांडेंट ब्रिगेडियर टीसी मल्होत्रा ने बच्चों को पुरस्कार वितरित किए इस अवसर पर उन्होंने इंप्रूव इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के बारे में बच्चों को जानकारी दी आकर्षक वस्तुओं खिलौनों जैसे जैसे ट्रांजिस्टर कोई खिलौना या लावारिस वस्तुओं को ना छूने की सलाह दी इसमें एक्सप्लोसिव हो सकता है।कोई भी बच्चा कही घूमने अपने परिवार या दोस्तो के साथ बाहर जाता है।वहा पर उसको कोई भी लावारिस मोवाइल,बैटरी वाले खिलौने पड़े दिखाई देते है तो उनको विना छुए पुलिस को जानकारी दे जिससे उसमे छिपी बारूद को नष्ट किया जा सके।

जब बच्चो को म्यूजियम में घुमाया जा रहा था तो आर्मी के अधिकारी बच्चो को आज से पचास साल पुराने हथियार कैसे हुआ करते थे।उससे पहले के हथियार कैसे होते थे उनको दिखाने के साथ उनके वारे में भी जानकारी दे रहे थे।उस समय किन किन महापुरुषों ने इन हथियारों को कैसे इस्तेमाल किया होगा वह फोटो के माध्यम से बच्चो को समझाया गया है।

कार्यक्रम के अंतिम दौर में बच्चो में दिखा अनुशासन-छावनी क्षेत्र में जिस समय सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्ष गांठ के कार्यक्रम के समापन के समय बच्चो को जो अनुशासन सिखाया गया वह दिखाई दिया क्योंकि सभी बच्चे रंग विरंगे कपड़ो में लाइन से एक साथ विना हरकत किये बैठे दिखाई दे रहे थे भारत माता के जयकारों पर एक स्वर में जयकारे लगा रहे थे।क्योकि सर्जिकल स्ट्राइक को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया गया है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।