कानपुर - गंगा स्वच्छता अभियान की ब्रांड अम्बेसडर 40 सदस्यीय टीम के साथ जागरूकता यात्रा पर राफ्टिंग - तहकीकात न्यूज़

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 17 October 2018

कानपुर - गंगा स्वच्छता अभियान की ब्रांड अम्बेसडर 40 सदस्यीय टीम के साथ जागरूकता यात्रा पर राफ्टिंग

ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता 
 
मीटू अभियान में शिकायत करने वाली महिलाओ पर पद्मश्री बछेन्द्री पाल का बयान शिकायत पर कार्यवाही तो होनी चाहिए लेकिन ये महिलाये इतने दिनों तक क्यों रही चुप


कानपुर-एवरेस्ट की चोटी तक पहुंचने वाली देश की प्रथम महिला जिन्हें पर्वतारोही भी कहा जाता है केंद्र सरकार के गंगा स्वच्छता अभियान की ब्रांड अम्बेसडर बछेंद्री पाल अपनी 40 सदस्यीय टीम के साथ जागरूकता यात्रा पर राफ्टिंग करते हुए निकली है वह हरिद्वार से बनारस तक 1500 किलोमीटर तक कि गंगा में राफ्टिंग करते हुए दूरी तय कर रही है । और यह टीम जगह जगह रुककर लोगों को गंगा सफाई के प्रति जागरूक कर रही है जिसको लेकर बुधवार को पर्वतारोही बछेंद्री पाल ने कलेक्ट्रेट सभागार में प्रेस वार्ताकी ।

आप को बता दे की गंगा की स्वछता के लिए राफ्टिंग पर निकली पर्वतारोही बछेंद्री पाल अपनी टीम के साथ बीते रविवार से ही कानपुर में है जहां पर उन्होंने स्वच्छता गंगा मिशन के तहत हरिद्वार से बनारस की गंगा यात्रा पर निकली है यहां उन्होंने इन दिनो कानपुर के कई घाटों की टीम के साथ साफ सफाई की साथ ही लोगों को गंगा सफॉइ के लिए जागरूक भी किया है। इस टीम में 20 महिलाएं और 20 पुरुष है जिसमें कुछ लोग आगे सफर शुरू कर दिया है 

बछेंद्री पाल ने बताया कि यह मिशन गंगा की स्वच्छता को लेकर है और हमने यात्रा के दौरान जगह जगह गंगा में काफी गंदगी पाई जहां इसको लेकर लोगों को सफॉइ के प्रति जागरूक करने का काम किया है कानपुर में परमट घाट पर गंदगी देखकर उन्होंने दुख भी ब्यक्त किया। हमने लोगो को गंगा सफॉइ में अपना योगदान देने के लिए उन्हें जागरूक करने के लिए प्रेरित किया है लोगो में जागरूकता दिखाई दी है लोग जुड़ भी रहे है। फरुखाबाद में कुछ लोग दाह संस्कार के लिए आये हुए थे 

जब उन्होंने हम सभी को देखा तो उन्होंने कहा कि आप सभी का प्रयास सराहनीय है। वही मीटू मामले में महिला पर्वता रोही पदमश्री बछेन्द्री पाल ने मीटू पर आई शिकायतों पर कार्यवाही की मांग करते हुए उन महिलाओ पर भी सवाल उठाये जो अपने शोषण के समय तो चुप रही अब कई कई सालो बाद उनका खुलाशा कर रही है उन्होंने कहा कार्यवाही होनी चाहिए जरूर लेकिन ये लोग इतने सालो तक रुके क्यों रहे मुझे समझ नहीं आता गलत करना और सहना दोनों बराबर गलत है इस बर्दास्त से बाहर है गलत जब होता है उसे उसी समय जगजाहिर करना चाहिए

No comments:

Post a Comment