फैजाबाद-सत्ता की निरंकुशता देखकर याद आते हैं डा राम मनोहर लोहिया - सपा जिलाध्यक्ष - तहकीकात न्यूज़

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 12 October 2018

फैजाबाद-सत्ता की निरंकुशता देखकर याद आते हैं डा राम मनोहर लोहिया - सपा जिलाध्यक्ष


रिपोर्ट -बलराम चौरसिया

सत्ता की निरंकुशता देखकर डा राम मनोहर लोहिया याद आते हैं। डा लोहिया ने कहा था कि सड़कें सूनी हो जायेंगी तो संसद गूंगी हो जायेगी। उक्त बातें समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव ने सपा लोहिया कार्यालय लोहिया भवन में आयोजित डा लोहिया की 51वीं पुण्यतिथि के अवसर पर एक गोष्ठी में कहीं।







गोष्ठी के अवसर पर डा राम मनोहर लोहिया के चित्र पर माल्यार्पण किया गया। सपा जिलाध्यक्ष ने कहा कि डा लोहिया लोकतंत्र के लिये तीन चीजों को जरूरी मानते थे लोकभाषा, लोकलाज और लोक वेशभूषा। लेकिन आज इन तीनों चीजों को जबरदस्त अतिक्रमण हुआ है। न जनता की भाषा है न लोकलाज है और न लोक वेशभूषा है। उन्होंने कहा कि सत्ता शीर्ष पर आसीन के लिये दिन में पाच बार वस्त्र बदलना भी देश के प्रधानमंत्री को कम लगता है।

सपा प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी ने बताया कि गोष्ठी में जिला उपाध्यक्ष बाबूराम गौड़, जय प्रकाश यादव, चौधरी बलराम यादव, डॉ0 वेद प्रकाश यादव,शिवबरन यादव, कृष्ण कुमार पटेल, रक्षाराम यादव,तुलसीराम यादव, चन्द्रभान यादव, शाहबाज खान लकी आदि ने अपने-अपने विचार रखे। प्रवक्ता ने बताया कि गोष्ठी से लोहिया मण्डप पर डा राम मनोहर लोहिया की प्रतिमा पर सपा जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव की अगुवाई में पूर्व राज्यमंत्री तेजनारायण पाण्डेय पवन, पूर्व राज्यमंत्री आनन्दसेन यादव, जिला उपाध्यक्ष बाबूराम गौड़, सपा प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी, सपा प्रदेश कार्यकारिणी के पूर्व सदस्य छेदी सिंह, सपा महानगर अध्यक्ष मोहम्मद कमर राईन, उपाध्यक्ष हामिद जाफर मीसम, अनिल यादव बब्लू, अरशद आलम मोनू, राम प्रसाद वर्मा, अजय विश्वकर्मा, मकसूद भोलू आदि ने माल्यार्पण कर श्रद्धाजंलि दी।

No comments:

Post a Comment