कानपुर - अपमान पर भड़के लोकतंत्र सेनानी - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 26 November 2018

कानपुर - अपमान पर भड़के लोकतंत्र सेनानी


 
ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता

लोकतंत्र सेनानी कल्याण परिषद के आवाहन पर फूलबाग स्थित गांधी प्रतिमा पर लोकतंत्र सेनानी स्वर्गीय गुरुवेंद्र तिवारी को प्रशासन द्वारा राजकीय सम्मान न दिए जाने के विरोध में धरना प्रदर्शन किया और प्रदेश के मुख्यमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन मंडलायुक्त को सौंप कर अपनी पीड़ा दर्शाई।

 
 
 
राजकीय सम्मान दिया जाए

फूलबाग स्थित गांधी प्रतिमा पर प्रदर्शन कर रहे लोकतंत्र सेनानियों का नेतृत्व कर रहे राष्ट्रीय महासचिव चतुर्भुज त्रिपाठी ने कहा कि आपातकाल देश की आजादी की दूसरी लड़ाई थी और इस लड़ाई की जीत को लेकर देश के युवा काफी उत्साहित थे और उन्होंने इसे जीतने के लिए अपना तन मन व धन न्योछावर कर दिया इन सेनानियों की समस्याओं को लेकर स्वर्गीय गुरुवेंद्र तिवारी ने हमेशा ही सँघर्ष किया था और लगातार मंत्रियों और अधिकारियों को उन समस्याओं से अवगत कराते रहे थे।
 
 
 
उनका राष्ट्र और समाज के प्रति बड़ा योगदान रहा और वे सभी लोकतंत्र सेनानियों की आवाज़ के साथ हमेशा खड़े रहे। त्रिपाठी ने कहा कि गुरुवेंद्र तिवारी की मृत्यु 22 अक्टूबर 2018 को हुई थी इसकी सूचना जिला प्रशासन को दी गयी थी और राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कराने की बात भी कही गयी थी लेकिन प्रशासन ने यह नही किया जबकि उत्तर प्रदेश लोकतंत्र सेनानी सम्मान अधिनियम 2016 के पृष्ठ संख्या 4 पर धारा 6 (2) में यह स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि किसी भी लोकतंत्र सेनानी की मृत्यु की दशा में उसकी अंतिम क्रिया राजकीय सम्मान के साथ की जाएगी। स्वर्गीय गुरुवेंद्र तिवारी का अंतिम संस्कार राजकीय संम्मान से न किया जाना जिला प्रशासन की लापरवाही व अनदेखी है इसकी शिकायत शासन स्तर पर की गई है। यदि उन्हें ऐसा सम्मान नही दिया गया तो आगे ऐसे ही आंदोलन होगा।
 
 
इस धरने में रविदास महरोत्रा, चंद्रपाल सिंह,राम मिलन,इंद्रपाल भारती, नन्दलाल,पीके त्रिपाठी समेत तमाम लोग मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।