कानपुर- गंगा की स्वच्छता व अविरलता को लेकर बालू में आकृतियां बनाकर किया लोगो को जागरूक - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 12 December 2018

कानपुर- गंगा की स्वच्छता व अविरलता को लेकर बालू में आकृतियां बनाकर किया लोगो को जागरूक

 ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता

 सरसैया घाट में चिकितुषि का अनूठा कार्यक्रम सेंड आर्ट यानी बालू मूर्ति का आयोजन किया गया इस प्रतियोगिता में एक दर्जन महाविद्यालय के बच्चों ने भाग लिया इस दौरान बच्चों ने अपनी कला का अनूठा प्रदर्शन करते हुए मां गंगा के तट पर रेती से कला को दर्शाया किसी ने प्रदूषण को रोकने के लिए तस्वीर बालू से उकेरी तो किसी ने 2019 के कुंभ मेले को दर्शाया इस दौरान बच्चो ने कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए अपनी कला के माध्यम से लोगो को जागरूक किया तो वहीं छात्र छात्राओं ने लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की आकृति बनाकर लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया। 
 
 
आपको बता दें कि यह चिकितुषि का कार्यक्रम पिछले 13 वर्षो से निरंतर आयोजित किया जा रहा है इस कार्यक्रम का उद्देश्य गंगा को स्वच्छ रखने के साथ साथ उसे निर्मल और अविरल बनाने के लिए किया जाता है वहीं छात्र छात्राओं को गंगा की सफाई के लिए शपथ भी दिलाई जाती है इस कार्यक्रम में छात्र छात्राओ को 2 दिन का समय दिया जाता है इस दौरान वे अपनी कला के माध्यम से आमलोगों के सामने कला का अद्भुत प्रदर्शन करते हैं।
 

छात्र उज्ज्वल ने बताया कि हमारी टीम ने प्लास्टिक पर रोकथाम के लिए सैंड आर्ट के माध्यम से फिश बनाकर दर्शाया है कि मछलियों को कैसे सुरक्षित रखे क्योंकि लोग गंगा के किनारे प्लास्टिक फेंक देते है और वे इसे अपना आहार समझकर खा लेती है जिससे उनकी मौत हो जाती है इस आर्ट के माध्यम से पालीथिन पर रोक लगाने के लिए लोगों को जागरूक करने का काम किया है जिससे मछलियां भी सुरक्षित रहे और गंगा भी। अभी कुछ दिनों पहले देश मे सबसे बड़ी मूर्ति गुजरात मे लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की बनाई गई है उनके देश हित मे किये गए कार्यो को इस सेंड स्कल्पचर से उकेरा है जिसके लिए हमारी टीम को फर्स्ट प्राइज भी मिला है। छात्रा चंदा ने बताया कि हम सभी ने आजकल पर्यावरण जिस तरह से प्रदूषित हो रहा है जगह जगह ग्रीनरी काटी जा रही है जिससे वातावरण प्रदूषित हो रहा है उसी को देखते हुए ग्रीन एनवायरमेंट के जरिये दिखाया है कि सभी को आसपास हरियाली बनाई रखनी चाहिए जिससे प्रदूषण न हो। छात्रा नैना ने बताया कि कन्या भ्रूण हत्या हमारे समाज मे अभिशाप है फिर भी हो रहे है इसलिए हम सभी ने इसे समाज से अपील करते हुए इसे रोकने के लिए सेव आ गर्ल चाइल्ड आर्ट बनाकर इसे दर्शया है की ऐसा गुनाह न करे और कन्या की रक्षा करें। 
 
 
कार्यक्रम की आयोजिका डॉक्टर पूर्णिमा तिवारी ने बताया कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य यही है कि  स्वच्छ गंगा अविरल गंगा। इस प्रतियोगिता में 12 टीमो के लगभग 200 प्रतिभागियों ने अलग अलग महाविद्यालयों से हिस्सा लिया आज गंगा को स्वच्छ और साफ रखने के लिए उन्हें शपथ भी दिलाई गई पानी की जरूरतों को गहनता से बताया गया।सेंड आर्ट की थींम यही है इसमें पर्यावरण और समाज की गतिविधियों को लेकर कितना जागरूक है लोग उन्ही को देखते हुए बालू आकृतियों को दर्शाया गया है साथ ही आगामी कुंभ को भी दिखाया गया है और पानी मे रहने वाले जीवो के संरक्षण को लेकर भी बच्चो ने आकृतियां बनाई हैं। आज यहां इन बच्चो ने अपने हुनर का अनूठा प्रदर्शन किया है।
 
 
इस अवसर पर निर्णायक मंडल में जयकरण निषाद, डॉक्टर वंदना शर्मा , साथ ही संचालन में डाक्टर मुमुलिका और डॉक्टर अंजली शुक्ला मौजूद रहीं।

No comments:

Post a Comment