बस्ती / सल्टौआ - पुल नहीं तो वोट नहीं ,किया गया प्रदर्शन - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 16 December 2018

बस्ती / सल्टौआ - पुल नहीं तो वोट नहीं ,किया गया प्रदर्शन

रिपोर्ट - राजितराम यादव

सल्टौआ ब्लॉक बारहछत्तर के पक्के पुल निर्माण को लेकर जितेंद्र कुमार अग्रहरि ने सैकड़ों नौजवान के साथ विरोध मे जल सत्याग्रह व विशाल प्रदर्शन किया भारतीय हिंदू सेवक संगठन जितेंद्र कुमार अग्रहरि अध्यक्ष मंडल बस्ती के सैकड़ों जवान के साथ धर्मस्थल बारहछत्तर के कुआनो नदी में जल सत्याग्रह किया साथ ही साथ सांसद व विधायक का नारा लगाया यहां बारहछत्तर में पक्के पुल का निर्माण नहीं किया गया तो अबकी बार पुल नहीं वोट नहीं चाहिए तो हमें पक्के पुल का निर्माण चाहिए यहां पर सांसद 4 साल हो गई वादा किया सांसद ने बारहछत्तर का पक्के पुल निर्माण कराने को कहा था पर अपना वादा भूल गए जितेंद्र कुमार अग्रहरि के साथ सैकड़ों जवान ने बताया !


कुआनो नदी में बाढ़ आने से वन विभाग द्वारा बनाया गया कच्चे लकड़ी के पुल टूट जाते हैं यहां के साधु संत क्षेत्रवासियों को आने जाने के लिए मुसीबत का सामना करना पड़ता है बारहछत्तर भगवान बुद्ध का ननिहाल है साधु संत का कहना है रामदास प्रजापति ने कहा 70 साल से पुल का इंतजार कर रहे हैं बाढ आने पर कच्चे पुल टूट जाते हैं हम लोग भूखा रहना पड़ता है चारों ओर पानी पानी नजर आता है जितेंद्र कुमार अग्रहरि ने बताया कि शिक्षा के लिए बच्चों को जाना मुश्किल का सामना करना पड़ता है जितेंद्र कुमार अग्रहरि ने बताया जिला अधिकारी को पत्र दिया गया एक हफ्ता हो गया !

इस दौरान नौजवान साथियों के साथ जितेंद्र कुमार अग्रहरी मंडल अध्यक्ष गिरेजेश हरि ,ओम शिव अग्रहरि ,आदित्य प्रताप सिंह ,नीरज अग्रहरि ,अतुल पटवा ,रवि पटवा, अमित जयसवाल, दया शंकर गुप्ता, राजकुमार यादव ,रमेश यादव ,अजय कुमार ,अभिषेक कुमार ,राजन कसौधन ,मोनू राजेंद्र पुजारी,रामदास प्रजापति ,मंदिर पुजारी आदि लोग मौजूद रहे !

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।