कानपुर - बच्चो ने तीरंदाजी में दिखाये अपना हुनर का दम - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 21 December 2018

कानपुर - बच्चो ने तीरंदाजी में दिखाये अपना हुनर का दम

ब्यूरो कानपुर - रवि गुप्ता
 
जिला तीरंदाजी संघ कानपुर के तत्वावधान में 8 वां डिस्ट्रिक्ट तीरंदाजी चेम्पियनशिप का आयोजन ग्रीनपार्क स्टेडियम में किया गया इस चैंपियनशिप में अलग अलग 50 स्कूलों के लगभग 500 बच्चो ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया है। जहां बच्चो व सीनियर लोगों ने आर्चरी में अपना जमकर हुनर दिखाया।

 
 
 
 
 
पुरातन काल से चला आ रही यह परंपरा 

ग्रीनपार्क स्टेडियम में जिला तीरंदाजी संघ में कानपुर शहर के 50 स्कूलों से आये हुए लगभग 500 बच्चो ने आर्चरी में हिस्सा लिया खास तौर पर छात्र से ज्यादा क्रेज़ छात्राओं में आर्चरी को लेकर दिखाई दे रहा था जहां हर छात्राओं के जेहन में कहीं न कहीं अपने आप को देश के लिए खेलने का जुनून दिखाई दे रहा था हर कोई अपनी आदर्श मानने वाले भारतीय खिलाड़ी दीपिका कुमारी की तरह ही तीरंदाज में अपना भविष्य को संजोए हुए आगे बढ़ते हुए नज़र आ रहे है। इस आर्चरी खेल का जुड़ाव पुरातन काल से जुड़ा चला आ रहा है अध्यक्ष श्रेयांश कपूर ने बताया कि आज के आधुनिक युग मे तो बहुत से तकनीक आ गयी है लेकिन पहले केवल धनुष बाण ही एक मात्र सहारा होता था सुरक्षा की दृष्टि से आदमी की ताकत ही उसकी धनुर्धर विद्या से जानी जाती थी की कितनी अच्छी विद्या है जिसमें उनके गुरु उन्हें धनुर्धर विद्या की शिक्षा देते थे। बड़े बड़े धनुर्धर इस कौशल के लिए जाने जाते थे प्रभु राम,अर्जुन ,कर्ण जैसे बड़े बड़े धनुर्धर भी खुद इस कौशल के जरिये उन्हें जाना जाता था। बताया की गरीब बच्चो के लिए फ्री इंट्री है और हमारा संघ हमेशा उन्हें मदद करता है और सुविधाएं मुहैया करवाता है
 
 
यह स्पोर्ट आज बहुत बढ़ रहा है हमारा प्रयास है कि कानपुर शहर के बच्चे भी आगे स्टेट और नेशनल लेवल पर खेल कर देश के लिए मेडल लाएं। राजा भरत अवस्थी ने बताया कि बच्चो के सुंदर भविष्य के लिए और शहर को तीरंदाजी में बढ़ावा देने के मकसद से यह चेम्पियनशिप आयोजित की गयी है क्योंकि यहां तीरंदाजी को एक तो बढ़ावा तो मिलेगा ही साथ ही बच्चो के हुनर को भी पहचान सकते है इस तीरंदाजी खेल से निकलने वाले प्रतिभागी आगे बढ़कर वह स्टेट और नेशनल लेवल खेल सकते है जो उनके रोजगार के लिए भी सहायक होगा शहर में गरीब बच्चो के लिए निशुल्क फ्री इंट्री है हमारा संघ इन्हें हर सुविधा मुहैया करवाता है
 
 
तीरंदाजी खिलाड़ी संध्या ने बताया कि 2 साल से आर्चरी में हाथ आजमा रही है और वह भारतीय खिलाड़ी दीपिका कुमारी की तरह देश के लिए खेलना चाहती है बताया कि लड़कों के साथ साथ लड़कियां भी हर खेल में आज आगे है क्योंकि अक्सर उन्हें पीछे रखा जाता है जबकि उनके अंदर कौशल ज्यादा है इसलिए लडकिया भी लड़को से आज किसी भी विभाग में पीछे नही है।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।