वाराणसी - जस्टिस डीलेड इज जस्टिस डिनाइड, 28 साल बाद मिली नाबालिग से रेप करने वालों को सजा ... - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 30 January 2019

वाराणसी - जस्टिस डीलेड इज जस्टिस डिनाइड, 28 साल बाद मिली नाबालिग से रेप करने वालों को सजा ...

कैलाश सिंह विकाश ब्यूरो

वाराणसी कहा जाता है कि देर से मिलने वाला न्याय, न्याय न मिलने जैसा ही होता है। ऐसा ही हुआ नाबालिग से रेप के मुकदमे में, जहां दोषियों को 28 वर्ष बाद सजा सुनाई गई | वाराणसी की एक फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट ने नौ वर्षीय लड़की से दुष्कर्म करने के मामले में मंगलवार को ने दो अभियुक्तों कल्लू और रहमान को दोषी करार देते हुए उन्हें दंडित किया।

न्यायाधीश सर्वेश कुमार पांडेय की अदालत ने दोनों अभियुक्तों को दस-दस वर्ष के कठोर कारावास व 50-50 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना न देने पर अभियुक्तों को एक-एक वर्ष अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी। अदालत में अभियोजन पक्ष की पैरवी एडीजीसी प्रमथेश पांडेय ने की।

अभियोजन पक्ष के अनुसार रोहनियां थाना क्षेत्र के कोटवां गांव में 23 सितंबर 1991 को शाम में नौ वर्षीय अपने हमउम्र की कई लड़कियों से एक हाते में खेल रही थीं। उसी दौरान उसी गांव के रहने वाले दोनों अभियुक्त कल्लू तथा रहमान वहां आये और सभी लड़कियों को हाते से बाहर निकाल दिया। दोनों ने पीड़िता को मिठाई खिलाने का प्रलोभन देकर उससे कहा कि गोद में लिए लड़की को उसके मां को देकर हाते में आने को कहा। मासूम लड़की जब हाते मे पहुंची तो अभियुक्तों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। लड़की के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनकर उसके परिवार तथा गांव के अन्य लोग आये तो अभियुक्त भाग निकले।लड़की ने उसके साथ दोनों अभियुक्तों द्वारा दुष्कर्म करने की घटना की जानकारी दी। घटना के दूसरे दिन पीड़िता के परिजनों तथा गांव के लोगों ने अभियुक्त कल्लू को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया जबकि अभियुक्त रहमान ने दो दिन बाद यानि 26 सितंबर को अदालत में समर्पण कर दिया था। अदालत में पीड़िता समेत पांच गवाहों का बयान दर्ज किया गया। बाद में मुकदमे की सुनवाई हाईकोर्ट में विचाराधीन रही।

हाईकोर्ट से निस्तारण के बाद स्थानीय अदालत ने गवाहों के बयान तथा पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर दोनों अभियुक्तों को दोषी करार देते हुए उन्हें दंडित किया।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।