फर्रुखाबाद - मिस यूपी के ताज को लेकर मंच पर महाभारत - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 18 January 2019

फर्रुखाबाद - मिस यूपी के ताज को लेकर मंच पर महाभारत

रिपोर्ट- पुनीत मिश्रा
 
फर्रुखाबाद:युवा महोत्सव में आयोजित हुए विभिन्य कार्यक्रमों के बाद अचानक मिस यूपी के खिताब के लिए खेल हो गया| जीत का ताज दूसरे के हाथ में जाते ही दूसरी प्रतिभागी ने हंगामा कर दिया| हंगामा होता देख अयोजक मौके से खिसक गये| पुलिस मौके पर आ गयी|


मिस यूपी की प्रतियोगिता में लखनऊ की हर्षिता दुबे व जनपद मऊ की आकांक्षा तिवारी ने भी इसमे प्रतिभाग किया था| निर्णायक मंडल ने मिस यूपी का ख़िताब आकांक्षा तिवारी को दे दिया गया| इस बात पर प्रतिभागी हर्षिता दुबे ने कड़ी आपत्ति कर दी| हर्षिता ने आरोप लगाया की उसके साथ धोखा हुआ है| मिस यूपी का खिताब की असली हकदार वह ही है| आकांक्षा तिवारी को गलत तरीके से खिताब मिली भगत के चलते दिया गया है|
 

हर्षिता ने यह भी कहा की यंहा हुनर के हिसाब से खिताब नही दिए जाते| उसने हंगामा करते हुए चेतावनी दी की यदि उसको यूपी का खिलाफ नही दिया गया तो वह यंहा से नही जायेगी| यह देखकर आयोजक मौके से खिसक गये| कार्यक्रम से बत्ती गुल कर दी गयी| हंगामे की सूचना पर पुलिस मंच पर आ गयी| जिसके बाद पुलिस ने युवा महोत्सव के अध्यक्ष डॉ० संदीप शर्मा,संजीब मिश्रा बॉबी व आकाश मिश्रा आदि को दोबारा कार्यक्रम में बुलाया| हंगामा कर हर्षिता दुबे ने कहा की वह दोबारा से पुन: प्रतियोगिता कर सकती है| लेकिन वह जायेगी नही| इस बात से आयोजकों के हाथ पैर फूल गये| 

आयोजकों ने मिस यूपी चुनी गयीं आकाक्षा तिवारी को पुन: बुलाया और उसका ताज लेकर हंगामा कर रही हर्षिता के सिर पर रख फोटो ग्राफ करा दिए| लेकिन प्रमाण पत्र नही दिया उसे मेल पर भेजने की बात कही| लेकिन वह अपने हाथों में प्रमाण पत्र लेनें की बात करती रही| जादा हंगामा देखकर आयोजक मिस यूपी की विजयी प्रतिभागी आकांक्षा को अपने कार्यालय में बुला ले गये| हर्षिता ने आरोप लगाया की क्या अश्लील कपड़े पहनने वाले को ही ताज दिया जायेगा| प्रतिभा को नही समिति के अध्यक्ष डॉ० संदीप शर्मा ने बताया की बात चल रही है| आकांक्षा को ही मिस यूपी माना जायेगा| 

इस ड्रामे का दूसरा पार्ट तब शुरू हुआ जब आयोजन समिति के अध्यक्ष संदीप  ने आकांक्षा तिवारी को बुलाकर दरोगा का खौफ दिखाकर मिस यू पी का खिताब छीन लिया और उसे हर्षिता के हवाले कर दिया खिताब जीतने के बाद आकांक्षा की आंखों से आंसुओं की धार बह निकली 

No comments:

Post a Comment