शिक्षकों के साथ साथ चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की नियुक्तियां सम्भव नहीं हो सकी - सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 23 January 2019

शिक्षकों के साथ साथ चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की नियुक्तियां सम्भव नहीं हो सकी - सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी

रिपोर्ट - रामसूरत

राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी ने कहा कि प्रदेश सरकार के अधीन सभी विभागों में राज्य कर्मचारियों के हजारों पद रिक्त पडे़ हैं परन्तु सरकार की नीयत साफ न होने के कारण भरे नहीं जा रहे हैं। विषेश रूप से शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग सरकार की उदासीनता के कारण अधिक प्रभावित हो रहे हैं। शिक्षा विभाग की स्थिति पहले से ही दयनीय रही है 


वर्तमान सरकार का कार्यकाल लगभग दो शिक्षा सत्र पूरा हो चुका है फिर भी शिक्षकों के साथ साथ चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की नियुक्तियां सम्भव नहीं हो सकी हैं। जूनियर कक्षाओं की वार्षिक परीक्षाएं होने जा रही हैं परन्तु कई विषयों की पुस्तकों की छपाई ही नहीं हो पाई है फिर भी पुस्तकों के अभाव में छात्र परीक्षा देने को मजबूर है। आखिर इन छात्रों का भविष्य क्या होगा?

त्रिवेदी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में अधिकतर कार्य संविदा कर्मियों के माध्यम से लिया जा रहा है जो कि नाम मात्र का वेतन पाते हैं और अधिकांष लाभ आउटसोर्सिंग कम्पनी के कर्ता धर्ता उठा रहे हैं यही कारण है कि स्वास्थ्य विभाग स्वयं में पंगु है क्योंकि संविदाकर्मी अप्रिषिक्षित होते हैं सरकार को चाहिए कि अपनी नियत साफ करें और संविदा व्यवस्था समाप्त करके कर्मचारियों की सीधी भर्ती करे। ताकि विभागों का काम सुचारू रूप से चल सके। प्रदेश के मुख्यमंत्री आज भी राजकीय मेडिकल कालेजों में आउटसोर्सिंग कम्पनी द्वारा टेण्डर प्रक्रिया अपनाकर भर्तिया कर रहे हैं। यदि राज्य कर्मचारी की सीधी भर्ती की जाय तो उनको मिलने वाला अधिक वेतन मुख्यमंत्री अथवा विभागीय मंत्रियों की जेब से नहीं जायेगा। सबका साथ सबका विकास का नारा तो सरकार पूरा नहीं कर सकी अच्छा होगा कि समान कार्य के लिए समान वेतन देना ही प्रारम्भ कर दे। 
 
रालोद प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि बेरोजगार नवयुवकों को नौकरियां देने का लालच देकर सरकार सत्ता में आयी परन्तु उन्हीं बेरोजगारों के भविष्य से खिलवाड करने में सरकार पीछे नहीं है। वर्तमान सरकार में किसान और नौवजवान अपने को ठगा महसूस कर रहा है और अपना भविष्य तलाषने में लग गया है। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में निष्चित रूप से भाजपा सत्ता से बाहर हो जायेगी और देष की सरकार किसानों और नौजवानों की होगी।

No comments:

Post a Comment