सरकार बड़े-बड़े दावे कर रही थी,हर प्रकार की सरकारी नौकरियों की परीक्षाएं भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रही - बृजेन्द्र कुमार सिंह - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 7 January 2019

सरकार बड़े-बड़े दावे कर रही थी,हर प्रकार की सरकारी नौकरियों की परीक्षाएं भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रही - बृजेन्द्र कुमार सिंह

महेंद्र मिश्रा ब्यूरो उत्तर प्रदेश 
       
भाजपा सरकार की तमाम घोषणााओ के बाद कि मौजूदा सरकार सुचिता और पारदर्शिता के साथ प्रतियोगी परीक्षायें आयोजित करायेगी और बगैर किसी घोटाले या गड़बड़ी अथवा पक्षपात के युवाओं को नौकरी देगी,परन्तु दुख के साथ यह कहना पड़ रहा है कि प्रदेश सरकार द्वारा 7वीं बार आयोजित प्रतियोगी परीक्षा घोटालेबाजों की भेंट चढ़ गयी तथा परीक्षा की पवित्रता तार-तार हुई।
       

कांग्रेस प्रवक्ता बृजेन्द्र कुमार सिंह ने आदित्यनाथ की सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि मौजूदा सरकार बड़े-बड़े दावे कर रही थी, परन्तु क्या कारण है कि सरकार बनने के बाद से हुई हर प्रकार की सरकारी नौकरियों की परीक्षाएं भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रही हैं। चाहे वह नर्सिंग सहायक की परीक्षा रही हो या दो बार पुलिस भर्ती की परीक्षा या सिंचाई विभाग के इंजीनियर या नलकूप सहायक या प्राइमरी शिक्षक और अब कल की परीक्षा। हर परीक्षा में भ्रष्ट माफिया सफल साबित हुए हैं।
        
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि उत्तर प्रदेश की मौजूदा योगी आदित्यनाथ की सरकार केन्द्र की मोदी सरकार की तरह जुमले ही गढ़ रही है और किसी प्रकार के अपराध चाहे वह सामाजिक हो,आर्थिक हो या भर्तियों का यह सरकार उस पर अंकुश लगाने में पूरी तरह से अक्षम साबित हुई है, उसी का नतीजा है कि कल जो शिक्षक चयन की परीक्षा हुई उसमें जो लोग पकड़े गये वे एक महत्वपूर्ण विद्यालय के प्राचार्य हैं, एक सिपाही है। इससे यह साबित होता है कि इस भ्रष्टाचार को सरकार के किसी उच्च वर्ग का समर्थन प्राप्त है और उच्च अधिकारियों एवं भ्रष्टाचारियों के बीच के इस सम्बन्ध को पकड़ पाने में मौजूदा सरकार पूरी तरीके से अक्षम है, जिसका खामियाजा हमारे प्रदेश के करोड़ों बेरोजगार युवाओं को भुगतना पड़ रहा है। युवाओं की पूरी योग्यता भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ रही है, वेसे ही जैसे 68 हजार शिक्षक भर्ती में 22 नम्बर, 19 नम्बर, 37 नम्बर वाले अभ्यार्थी, बिना परीक्षा में बैठे वाले अभ्यर्थी तो शिक्षक बन गये थे पर 122 नम्बर, 119 नम्बर और 907 नम्बर पाने वाले टापर वंचित कर दिये गये थे। भला हो उ0प्र0 के माननीय उच्च न्यायालय का जिसके आदेश के चलते योग्य बच्चों के साथ न्याय हो सका और उन्हें इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश सरकार युवाओं को रोजगार देने के मामले में पूरी तरीके से असंवेदनशील है तथा भ्रष्टाचार में आकंठ तक डूबी हुई है।

No comments:

Post a Comment