कानपुर देहात-मवेशियों को लेकर अब महिलाओं का फूटा गुस्सा ,मुख्य मार्ग को किया जाम ... - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Monday, 28 January 2019

कानपुर देहात-मवेशियों को लेकर अब महिलाओं का फूटा गुस्सा ,मुख्य मार्ग को किया जाम ...

जिला संवाददाता - अरविन्द शर्मा 

जिले के रसूलाबाद क्षेत्र असालतगंज में मवेशियों को लेकर अब महिलाओं का गुस्सा फूट पड़ा। महिलाएं घरों से हाँथ में लाठी डंडे लेकर रसूलाबाद बिल्हौर मुख्य मार्ग पर पहुंच गई और मुख्य मार्ग जाम कर मवेशियों द्वारा नुकसान की गई फसलों के मुआवजे की मांग को लेकर हंगामा काटने लगी। इस बीच दोनों तरफ वाहनों की कतारें लग गयी। वहीं ग्राम प्रधान द्वारा कोई मदद न किये जाने पर महिलाओं ने मुर्दाबाद के नारे लगाए। इसकी सूचना पर मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर ललित कुमार व तहसीलदार रचना अग्निहोत्री ने पीड़ित किसान महिलाओं के नाम लिखकर रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजने की बात कहकर जाम खुलवाया।

कानपुर देहात में अन्ना मवेशियों को लेकर अभी भी किसानों की परेशानी दूर नहीं हो रही है। हालांकि प्रदेश सरकार द्वारा अस्थाई गौशाला बनवाये जाने के बाद मवेशियों को उनमें सुरक्षित कर उनके खान पान का प्रबंध किया गया है। जिससे मवेशी के सुरक्षित होने के साथ किसानों के फसल नुकसान होने की समस्या का निराकारण भी हो सके, लेकिन रसूलाबाद क्षेत्र के असालतगंज में आज महिलाओं आक्रोश सड़क पर दिखा। जब हाँथ में लाठी डंडे लेकर महिलाओं ने मुख्य मार्ग जाम कर दिया।ग्रामीण महिलाओं ने बताया कि आश्रय स्थल बनवाया गया है लेकिन बाड़बंदी न होने से मवेशी रात में निकलकर फसलों को चौपट कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त आस पास क्षेत्र के लोग भी मवेशियों को खदेड़कर इसी आश्रय स्थल में बंद कर रहे हैं। जहां सैकड़ों की संख्या में मवेशी होने से वे बाहर निकल जाते हैं और हमारी खेंतो में खड़ी फसल चट कर रहे हैं। इससे हम लोग भुखमरी की कगार पर आ जाएंगे। आरोप है कि जब ग्राम प्रधान मुमताज अहमद से मदद के लिए कहा गया तो उन्होंने मदद करने से इंकार करते हुए जिलाधिकारी महोदय के पास जाने को कह दिया।


इस पर महिलाओं ने जाम लगा मुआवजे की मांग रखते हुए हंगामा काटा और प्रधान मुर्दाबाद के नारे लगाए। जाम लगने से मुख्य मार्ग के दोनों तरफ वाहन लाइन में खड़े हो गए। इसकी सूचना पर रसूलाबाद तहसीलदार अर्चना अग्निहोत्री सहित इंस्पेक्टर ललित कुमार फोर्स के साथ घटनास्थल पहुंच गए। तहसीलदार ने पीड़ित महिला किसानों के नाम लिखकर उनकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजने का आश्वासन देकर शांत कराया। इसके बाद जाम खुल सका। तब जाकर पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।