लखनऊ कांग्रेस प्रवक्ता अशोक सिंह कहा कि ,भीषण ठण्ड में रात ,रात भर जागने को मजबूर है किसान और ..... - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Friday, 18 January 2019

लखनऊ कांग्रेस प्रवक्ता अशोक सिंह कहा कि ,भीषण ठण्ड में रात ,रात भर जागने को मजबूर है किसान और .....

by - तहकीकात न्यूज़ 

आवारा पशुओं का जिस प्रकार पूरे प्रदेश में आतंक व्याप्त है और किसानों की 30 फीसदी से अधिक फसल बर्बाद होने के बाद भी शासन और प्रशासन आंख मूंदे बैठा है उससे योगी सरकार की किसानों के प्रति संवेदनहीनता पूरी तरह परिलक्षित हो रही है।



प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अशोक सिंह ने आज जारी बयान में कहा कि जिस प्रकार आगरा कुण्डौल में किसानों ने चन्दा जुटाकर करीब एक करोड़ रूपये खर्च करके लगभग सात सौ हेक्टेयर खेत में तार की बाड़ लगायी। रवी की फसल को बचाने के लिए इस भीषण ठण्ड में रात.रात भर जाग करके किसान मेढ़ों पर रात गुजार रहे हैं और अपनी फसलों की रक्षा कर रहे हैं वहीं आवारा पशुओं द्वारा नष्ट की गई फसलों के निरीक्षण या छुट्टा पशुओं को पकड़ने संबंधी किसी प्रकार के सहयोग की कोई व्यवस्था प्रदेश सरकार की ओर से नहीं की जा रही है।

प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ किसानों की इस गंभीर समस्या की ओर से आंखें मूंदकर गंगा स्नान कर रहे हैं और अन्नदाताए निरीह किसान कड़कड़ाती ठंड में अपनी फसलों की रक्षा करने में असमर्थ हो रहा है। इन पशुओं से यातायात प्रभावित है और तमाम तरह की दुर्घटनाएं हाईवे और सड़कों पर हो रही हैं किंतु सरकार के पास कोई योजनाबद्ध रूट मैप नहीं है जिससे इस समस्या से निपटा जाएए क्योंकि सरकार की प्राथमिकता में न तो नौजवान है और न ही किसान हैं। मुख्यमंत्री वा मोदी के सपनों को साकार करने में लगे हैं लेकिन उनके इस नए भारत में दलितए वंचितए शोषितए किसानए युवाए महिला और बच्चों के लिए आधारभूत सुविधाएं धरातल पर कहीं नहीं है। एक स्वच्छ समाजए सुरक्षा और चिकित्सा दूर.दूर तक भाजपा के एजेण्डे में शामिल नहीं है। इनके एजेण्डे में तो सिर्फ बड़े.बड़े होर्डिंग्स पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की थोथी यश की गाथाएंए दीवारों पर रंग बिरंगी चित्रकारी और बिजली के खंभों पर रंग बिरंगी चाइनीस लाइटिंग ही हैंए भाजपा की नजर में इतने से ही नए भारत का निर्माण हो रहा है।
कांग्रेस पार्टी मांग करती है कि आवारा एवं छुट्टा पशुओं की इस गंभीर समस्या को मुख्यमंत्री गंभीरता से लेते हुए अन्नदाता किसानों की बर्बाद हो रही फसलों को बचाने के लिए ठोस एवं नियोजित कार्यवाही करें। इसके साथ ही तत्काल राजस्व विभाग से किसानों की बर्बाद हुई फसलों का मूल्यांकन कराकर किसानों की बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा प्रदान करें। 

No comments:

Post a Comment