कानपुर देहात- परिषदीय स्कूल में आवारा मवेशियों का झुंड घुसता देख बच्चों में मची अफरा तफरी, जान बचाकर भागे बच्चे - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 6 January 2019

कानपुर देहात- परिषदीय स्कूल में आवारा मवेशियों का झुंड घुसता देख बच्चों में मची अफरा तफरी, जान बचाकर भागे बच्चे





जिला संवाददाता - अरविन्द शर्मा 

जिले के मंगलपुर क्षेत्र के अनन्तपुर धौकल गांव के प्राइमरी स्कूल के बच्चों में उस समय अफरा तफरी मच गई, जब आवारा मवेशियों का झुंड स्कूल परिसर में जा घुसा। किसी तरह बच्चे जान बचाकर परिसर से बाहर की तरफ भाग खड़े हुये। कुछ बच्चे बाउंड्रीवाल फांदकर बाहर भागे तो कुछ कक्षाओं में छिप गए। दरअसल आवारा मवेशियों का आतंक दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है, इससे ग्रामीणांचल में किसानों का धैर्य जवाब दे गया। इन मवेशियों द्वारा खेतों में फसल नुकसान आक्रोशित किसानों ने गांव में घूम रहे आवारा मवेशियों को गांव के प्राथमिक स्कूल में बंद कर ताला डाल दिया। इस बीच स्कूल के शिक्षकों ने बच्चों को गांव के एक चबूतरे पर बैठा दिया। हालांकि सूचना पर मंगलपुर पुलिस सहित डेरापुर एसडीएम व तहसीलदार ने ग्रामीणों को समझाया और विधालय परिसर को खाली कराया। इसके बाद शिक्षकों को राहत मिली।

 





मवेशियों का झुंड देख बच्चे चीखे

कानपुर देहात के थाना मंगलपुर क्षेत्र के अनन्तपुर धौकल गांव स्थित प्राथमिक स्कूल में प्रधानाध्यापक सुनील कुमार व अन्य शिक्षक बच्चों को पढ़ा रहे थे। तभी गांव के आधा दर्जन किसान हांथो में लाठियां लिए मवेशियों का झुंड खदेड़कर लाये और स्कूल का मुख्य द्वार खोलकर मवेशी अंदर हांक दिए। एक एक कर मवेशियों को अंदर आता देख बच्चे हो हल्ला काटने लगे। शिक्षक कुछ समझ पाते, तब तक ग्रामीणों ने बाहर से गेट बंद कर दिया। इस पर बच्चे दीवार से फांदकर भागने लगे। वहीं नन्हे मुन्ने नौनिहाल अपनी कक्षाओं में ही दुबकने लगे। जैसे तैसे शिक्षकों ने बच्चों को सुरक्षित कर स्कूल से बाहर निकाला और गांव के चबूतरे पर बैठाया।

 




एक सप्ताह में होगा मवेशियों का इंतजाम
विधालय प्रधानाध्यापक ने खंड शिक्षाधिकारी को सूचना दी और बताया कि ग्रामीण और अधिकारी आ गए है। मवेशी अभी भी विधालय में बंद हैं। इधर इसकी सूचना मिलते ही मंगलपुर पुलिस स्कूल पहुंच गयी। मौके पर पहुंची एसडीएम दीपाली कौशिक ने ग्रामीणों से वार्ता कर उन्हें समझाया और एक सप्ताह में आवारा मवेशियों का इंतजाम करने का आश्वासन दिया। तब जाकर ग्रामीण शांत हुये। इसके बाद पुलिस ने मवेशियों को बाहर निकाला और उन्हें परजनी के जंगल मे छुड़वाया गया। इसके बाद ग्रामीणों व स्कूल के शिक्षकों को राहत मिल सकी। उपजिलाधिकारी दीपाली कौशिक ने बताया कि स्कूल में बंद अन्ना जानवरों को जंगल में छुड़वा दिया गया है, सात दिनों में इनके रहने की व्यवस्था कर दी जाएगी।

No comments:

Post a Comment