उन्नाव - पम्पोर हमले में शहीद के परिजनों की प्रतिक्रिया ... - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 26 February 2019

उन्नाव - पम्पोर हमले में शहीद के परिजनों की प्रतिक्रिया ...

रिपोर्ट - विशाल सिंह

उत्तर प्रदेश के पुलवामा में शहीद हुए भारतीय सैनिकों की शहादत का बदला लेने को लेकर आज भारतीय वायु सेना ने जो कदम उठाया उसको लेकर देश की जनता बहुत खुश है और वही जब भारतीय हमले की बात को लेकर शहीद कैलाश यादव जो कि पम्पोर हमले में 25 जून 2016 को शहीद हुए थे उनकी पत्नी,माँ और भाई से जब भारत द्वारा किये गए हमले को लेकर जानना चाहा की उनका क्या कहना है तो शहीद की पत्नी किरन यादव ने बताया कि हमे बहुत खुशी महसूस हो रही है और सरकार से चाहते है कि इससे बड़ा और कदम उठाये औऱ पाकिस्तान को पूरी तरह से खत्म कर देना चाहिए।वही शहीद कैलाश की माँ का कहना है कि अभी हमारी आत्मा को शांति नही मिली है छोटे छोटे बच्चे बच्चियां रो रही है निरपराध मारे गए है जब तक पूरा पाकिस्तान खत्म नही होगा हम लोगो को शांति नही मिलेगी मेरा बेटा प्राणों की बाजी लगाकर देश के लिए शहीद हो गया है ।मेरे दो तीन बेटे और है अगर जरूरत पड़े तो मैं उनको भी भेजने के लिए तैयार हूँ ।वही शहीद कैलाश यादव के भाई ने कहा कि इससे सकून मिला है और चाहते है कि इसी तरीके की कार्यवाही औऱ हो जितने भी आतंकी है एक एक को चुन चुन कर मारा जाए तब हमको शांति मिलेगी





बहुत ज्यादा खुशी महसूस हो रही है और सरकार से हम चाहते है कि इससे और कड़े से कड़ा एयर सख्त से सख्त कदम लिया जाए,जी हमारी तरफ से पूरी तरह से पाकिस्तान को खत्म कर देना चाहिए ।तभी जाकर थोड़ा स्वच्छ भारत होगा


 अच्छा महसूस कर रहे भैया लेकिन अभी हमारी आत्मा को शांति नही मिली है जब तक मेरे बेटो के जैसे 20 बच्चियों को रुलाया है छोटे छोटे बच्चे रो रहे है निरपराध मारे गए है जब तक पूरा पाकिस्तान खत्म नही होगा तब तक हम लोगो शांति नही मिलेगी जितने आतंकी है सब सारे आतंकी मारे जाए तब हमारी आत्मा को शांति मिलेगी मेरा बेटा मेरी घर की बहुए मेरा सपूत मेरे छोटे छोटे किसकी आस लगाए मैं बूढ़ी मा हूँ उनकी मेरा भैया मेरा बेटा देश के लिए शहीद हो गया अपने प्राणों की बाजी लगाकर दुश्मनो के साथ गोली चलाकर अपने प्राणों की बाजी लगा दी इससे मैं बहुत प्रसन्न हूँ मेरा बेटा देश का सेवक बन कर इस संसार से चला गया मेरे आंसू नही आ रहा है मेरे दो तीन बेटे और है अगर जरूरत पड़े तो मैं अपने उन बेटो को भी भेजने के लिए तैयार हूँ इससे हमको बहुत सकून मिला है अभी इससे हम संतुष्ट नही है हम लोग और चाहते है कि इसी तरीके की कार्यवाही हो जितने भी आतंकी है एक एक चुन चुन कर मारा जाए तब हम लोगो को शांति मिलेगी

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।