कानपुर देहात - बुजुर्ग महिला पुलिस आफिस में पहुंचकर न्याय के लिए गिड़गिड़ाई, दरोगा पर लगाए ऐसे आरोप, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 12 May 2019

कानपुर देहात - बुजुर्ग महिला पुलिस आफिस में पहुंचकर न्याय के लिए गिड़गिड़ाई, दरोगा पर लगाए ऐसे आरोप, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

जिला सवांदाता - अरविन्द शर्मा

 जनपद कानपुर देहात में घूसखोर दरोगा की वह तस्वीर सामने आई है, जिसे देख यकीनन खाकी शर्मसार हो जाएगी। दरअसल एक बुज़ुर्ग महिला ने एसपी आफिस में तमाम पुलिस कर्मियों के सामने रिश्वतखोर दरोगा को रोक लिया और घूस की रकम वापस मांगी। जिससे दरोगा सिटपिटा गया। ये नज़ारा देख सब हैरान रह गए। बताया गया कि घूंसखोर दरोगा उस बुज़ुर्ग महिला से 2 हज़ार रुपये ले चुका था। साथ ही 20 हज़ार रुपये और मांग रहा था। मामले के मुताबिक बुज़ुर्ग महिला के बेटे व बहू में विवाद चल रहा था। इस कारण उसके नाती व नातिन उसके साथ रह रहे थे। बहू ने अपने बच्चो को मांगने के लिए दरोगा को तहरीर दे दी। लिहाज़ा घूंसखोर दरोगा बुज़ुर्ग दादी पर उसके ही पोती पोते के अपहरण का मुकदमा लिखने की धमकी देकर घूस मांगने लगा।


बुजुर्ग महिला इस तरह गिड़गिड़ाती रही

इस पर कानपुर देहात के पुलिस आफिस पहुंची बुजुर्ग राजू देवी ने आपबीती बताते हुए कहा कि मैं अपहरणकर्ता नहीं हूँ, ये मेरे नाती व नातिन हैं और मैं इन दोनो को बहुत चाहती हूँ। दरोगा जी को मैं नातिन की फीस में से दो हज़ार रुपये दे चुकी हूँ, लेकिन दरोगा जी 20 हज़ार रुपये और मांग रहे हैं। वरना वो मुझे अपने ही नाती नातिन के अपहरण के मुकदमे में फसाने की धमकियां दे रहे हैं। मैं 20 हज़ार रुपये कहां से लाऊं साहब। इस तरह पीड़ित राजू देवी एक रिश्वतखोर दरोगा की दास्तान बयां ही कर रही थी कि तभी घूसखोर दरोगा अकबर अली बुज़ुर्ग राजू देवी के सामने आ गया। फिर क्या था राजू देवी ने तमाम पुलिस कर्मियों के सामने दरोगा अकबर अली को रोक लिया और घूस की दी हुई रकम वापस मांगने लगी। ये मंज़र देख दरोगा अकबर अली के साथ वहां मौजूद हर शख्स भौचक्का रह गया। दरोगा अकबर अली के पास उस बुज़ुर्ग महिला के सवालों का एक भी जवाब नही था।

दरोगा ने दी थी मुकदमे में फंसाने की धमकी

दरअसल कानपुर देहात के अकबरपुर कोतवाली के गुढ़िया गांव की रहने वाली बुज़ुर्ग महिला राजू देवी के बेटे और बहू में विवाद चल रहा था। लिहाज़ा बेटा कानपुर में रहता था और बहू अपने घर में राजू देवी के एक नाती कृष्णा और नातिन प्रिंसी के साथ रहती थी। वह दोनों बच्चो का पालन पोषण कर रही थी। इस बीच राजू देवी की बहू ने दरोगा अकबर अली को प्रार्थना पत्र दे दिया कि उसके बच्चे उसे दिलाए जाए। फिर क्या था भ्रष्ट दरोगा अकबर अली की आंखे चमक गयी। अकबर अली ने राजू देवी को परेशान करना शुरू कर दिया। उसने राजू देवी को धमकाते हुए कहा कि अगर वो उसे घूंस नही देंगी तो बुज़ुर्ग महिला राजू देवी पर वो दोनों बच्चो के अपहरण का मुकदमा लिखकर जेल भेज देगा। जबकि दोनों बच्चे अपनी दादी के साथ ही रहना चाहते हैं।

नातिन की फीस से दिए थे 2 हजार रुपये रिश्वत

राजू देवी डर गयी और प्रिंसी की फीस में से 2 हज़ार रुपये दरोगा अकबर अली को दे दिए लेकिन अकबर अली का लालच यहीं नहीं रुका। वह राजू देवी से 20 हज़ार रुपये की डिमांड और करने लगा। वही जब दरोगा अकबर अली से  सवाल किए गए तो दरोगा अकबर अली ने मामले को दबाने के लिए बुज़ुर्ग महिला को दो हज़ार रुपये वापस कर दिए। बुज़ुर्ग पीड़ित महिला राजू देवी ने ज़िले के पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई है और भ्रष्ट दरोगा अकबर अली के घूसखोरी की शिकायत की है। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक ने आरोपी दरोगा अकबर अली की जांच सीओ अकबरपुर को दे दी है। वहीं कप्तान साहब भी स्वीकार कर रहे हैं कि नाती नातिन अपनी बुज़ुर्ग दादी राजू देवी के साथ रहना चाहते हैं।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।