वाराणसी - अब रेडिएशन रोकेंगी यूपी डायल 100 की गाड़ियां - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 29 June 2019

वाराणसी - अब रेडिएशन रोकेंगी यूपी डायल 100 की गाड़ियां

ब्यूरो वाराणसी कैलाश सिंह विकास

देश में रेडिएशन का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है. इस खतरे को भांपते हुए सरकार ने सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए हैं. इसके तहत अब यूपी डायल 100 की गाड़ियों में रेडिएशन डिटेक्शन सिस्टम लगाए जा रहे हैं. मकसद है शहरों में बढ़ते रेडिएशन के बढ़ते को रोका जाए.

6 शहरों में शुरू होगा प्रोजेक्ट:

केंद्र सरकार की ओर से इस पायलट प्रोजेक्ट की शुरुआत हो गई है. फिलहाल यूपी के छह शहरों में डायल 100 की गाड़ियों में रेडिएशन डिटेक्शन सिस्टम लगाया जा रहा है. यूपी 100 के डिप्टी एसपी शिव कुमार वर्मा ने बताया कि रेडिएशन के खतरे का पता लगाने वाला यह उपकरण पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर बनारस के अलावा प्रयागराज, लखनऊ, कानपुर, आगरा और गौतमबुद्ध नगर में लगाया गया है. दूसरे चरण में कई और भी शहरों में इस उपकरण को लगाया जाएगा.
 
 





अस्पतालों पर होगी खास नजर:
यूपी 100 के नोडल अधिकारी एसपी ग्रामीण मार्तण्ड प्रकाश सिंह ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से यह पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है. बनारस में यूपी 100 की दस गाड़ियों पर इस उपकरण को लगाया गया है. ये गाड़ियां भीड़भाड़, इंडस्ट्रियल एरिया समेत वाले पूरे शहर में चलेगी. जिन इलाकों में रेडिएशन का लेवल ज्यादा रहेगा, वहां डायल 100 की गाड़ियों में लगा अलॉर्म खुद ब खुद बजने लगेगा. अलार्म बजते ही गाड़ी में तैनात पुलिसकर्मी रेडिएशन को मापेंगे. साथ ही इसकी पूरी रिपोर्ट जिला प्रशासन को देंगे. उपकरणों को लगाने के बाद पुलिसकर्मियों को विशेष ट्रेनिंग दी गई हैं. इसके तहत जवानों को ये बताया जा रहा है कि रेडिएशन डिटेक्शन सिस्टम कैसे काम करता है ? कितने स्तर पर पहुंचने के बाद खतरनाक होता है और इस स्थिति में पहुंचने पर उन्हें क्या करना है ?

रेडिएशन से ये है खतरा:

रेडिएशन की अधिक मात्रा से कैंसर समेत कई तरह की होती है बीमारियों के होने का खतरा रहता है. वैज्ञानिकों के अनुसार रेडिएशन से कैंसर, त्वचा रोग होना प्रमुख हैं. ज्यादा रेडिएशन से शरीर का तंत्र कार्य करना बंद कर सकता है. यह ब्रेन हेमरेज का कारण भी बन सकता है. सबसे अधिक रेडिएशन अस्पतालों में लगे उपकरणों और मोबाइल टावर से होता है.

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।