कानपुर - 25 लाख से अधिक गाडियां कर रही कानपुर की हवा को जहरीला - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Saturday, 8 June 2019

कानपुर - 25 लाख से अधिक गाडियां कर रही कानपुर की हवा को जहरीला


 
ब्यूरो कानपुर रवि गुप्ता

हवा को जहरीली बनाने में वाहनो की महती भूमिका है। आज लगभग एक अरब 35 करोड गाडियं दुनिया में धुंआ उडेन ली है और वर्ष 2035 तक यह दो अरब से बहुत त्यादा हो जायेगी।। भारत वायु प्रदूषण में दुनिया का पांचवा सबसे बडा आर्थिक हेल्थ के लिए रिसक फैक्टर बन चुका है। यह बात योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में नो व्हीकल डे के अवसर पर आयोजित वायु प्रदूषण मुक्त भातर के लिए पदयात्रा के उद्धघाटन अवसर पर यशोदा नगर बाईपास में योग गुरू ज्योति बाबा ने कही। उन्होने कहा एक सामान्य गाडी साल में लगभग 4.7 मीट्रिक टन कार्बन डाइआॅक्साइड उत्सर्जित करती है। 1 लीटर डीजल खपत में 2.8 किलो कार्बन डाइआॅक्साइड, पेट्रोल से 2.30 किलो निकली है जो तममा बीमारियों की मुख्य वजह है। उन्होेन जोर देकर कहा कि अधाधुंघ भोग विलास व सुविधा भोगी होने के चलते हमने न सिर्फ जंगलों को खत्म किया, बल्कि आज भी आने वाली पीडियों को इससे बचाने का सबक नही ले रहे है। प्रैग्मा ग्रुप आॅफ इंस्टिटयूशन के निदेशक सतीश चंद गुप्ता ने कहा कि कानपुर में ही 25 लाख से ज्यादा गाडियां जहरीली हवा छोड रही है, जबकि शहर में केवल 1.57 प्रतिशत भूभाग में ही वन रह गये है। कहा एक दिन ऐसा आयेगा जब आवाज उठाने के लिए नही बचेंगे और तब तक दुनिया गैस चेंबर बन चुकी होगी। दीपक सोनकर ने कहा हम सभी ज्यादा से ज्यादा सार्वजनिक वाहनो का प्रयोग रके तथा थोडी-थोडी दूर के लिए बाइक के प्रयोग से बचें, बच्चों को साइकिल के प्रयोग के लिए प्रोत्साहित करें और सभी लोग पेडों को लगाये तभी आने वाली पीढियों को वायु प्रदूषण के खतरो से बचाया जा सकता है। इस अवसर पर राजेन्द्र कश्यप, वंश सोनकर, महेश पासवान, सचिन साहू, सोम रनवेश, नितिन, मुकुल तिवारी, रजाकुमार व अन्य लोग मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।