बस्ती जनपद मे स्वच्छता अभियान फेल - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Wednesday, 19 June 2019

बस्ती जनपद मे स्वच्छता अभियान फेल

रिपोर्ट - राजित राम यादव

 बस्ती जिले में सिर्फ कागजों में सिमट कर रह गया शौचालय। बस्ती जिले के हरैया ब्लाक में स्वच्छता अभियान पूरी तरह  फेल नजर आ रहा है। ग्राम सभा बरगदवा में नहीं कम्पलीट बने 330 शौचालय, जनता है परेशान मजबूरन गांव के बाहर शौच के लिए जा रही है जनता फैल रहा है गंदगी से गांव में बीमारी।  ग्राम प्रधान और ब्लॉक के कर्मचारियों की  मिलीभगत से शौचालय में बढ़ा गोलमाल  होता नजर आ रहा है । वहीं इस मामले पर जानकारी लेने पहुंची मीडिया टीम ने खंड विकास अधिकारी के पास तो खंड विकास अधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह भड़क गए और कहा की  मामला संज्ञान में आया है जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी देश के प्रधानमंत्री देश को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं  और स्वच्छता अभियान तहत हर वर्ष खरबों रुपया खर्च कर रहे हैं ।अपने अधिकारियों को सख्त निर्देश दे रहे हैं कि हर घर घर  में बनाया जाए शौचालय  जिससे जनता बीमारियों से मुक्त हो सके लेकिन अधिकारियों और ग्राम प्रधान की मिलीभगत से गांव में नहीं बन पा रहे हैं शौचालय आज भी गांव की जनता को गांव के बाहर टॉयलेट के लिए जाना पड़ रहा है।ऐसे में स्वच्छता का क्या हकीकत है यह जानने के लिए मीडिया टीम पहुंची बस्ती जिले के हरैया ब्लाक के बरगदवा ग्राम सभा में जहां जमीनी हकीकत देख कर आप भी दंग हो जायेंगे लगभग 3000 से अधिक आबादी वाला यह गांव विकास के लिए आंसू बहा रहा है।





 यहां की जनता आवास शौचालय  शुद्ध पानी के लिए तरस रही है । और ग्राम प्रधान सहित यहां के अधिकारी मस्त है इस गांव में स्वच्छता अभियान के तहत लगभग 330 शौचालय का ग्राम प्रधान बरगदवा के खाते में पैसा भेजा गया वही ग्राम प्रधान और सेक्रेटरी की मिलीभगत से इस गांव में एक भी शौचालय कम्पलीट नहीं बनाया गया सारे शौचालय अधूरे में छोड़ दिया गया। इन शौचालयों में ग्रामवासी कंडी चूल्हा लाकर रख दी वही ग्राम सभा वासियों ने बताया की  ग्राम प्रधान ग्राम विकास अधिकारी की मिलीभगत से और कमीशन खोरी के चक्कर में गांव में बन रहे शौचालय ठेकेदार को दे दिया गया था ठेकेदार अधूरा काम छोड़कर भाग गया जिससे एक भी शौचालय ग्राम सभा में नहीं बना साथ ही मजबूर होकर हम लोग गांव से बाहर शौच के लिए जाते हैं जिसे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है इस समय जंगली जानवर और आवारा पशु कई बार रात में हम लोगों के ऊपर हमला कर देते हैं जिससे हम लोग घायल हो गए हैं। ग्राम सभा बरगदवा में जितने शौचालय बने हैं उन शौचालयों में ना तो किसी में छत लगा है अगर छत लगा दिया गया तो शौचालय की सीट नहीं लगी है गड्ढा खुदा है तो उसके ऊपर ढक्कन नहीं लगा है




वही सबसे बड़ी समस्या इस ग्राम सभा में विकलांग महिलाएं हैं जिन का पैर टूट गया है उनको टॉयलेट जाने के लिए बड़ी दिक्कतें होती हैं महिलाओं ने बताया की छह-सात महीने से ऊपर हो गया गड्ढा खोदकर शौचालय छोड़ दिया गया कोई अधिकारी जांच करने भी नहीं आता वहीं महिलाओं ने कहा कि हम लोगों को पद से भी जा रहे हैं छप्पर में रहते लेकिन आज तक आवास ग्राम प्रधान द्वारा नहीं दिया गया इस मामले पर ग्राम प्रधान से बयान लेने का प्रयास किया गया तो वह बताएं हम दबंग प्रधान हैं हम बयान नहीं देते हैं जो खबर चलाना हो आप लोग चलाइए वहीं खंड विकास अधिकारी हरैया जितेंद्र प्रताप सिंह के पास मीडिया टीम जब पहुंची और  पूछी की ग्राम सभा बरगदवा में कितने शौचालय बनाए गए हैं सब अधूरे में है यह सुनते ही खंड विकास अधिकारी भड़क गए और कहा की मामला संज्ञान में आया है जांच कर कार्रवाई की जाएगी लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि जांच कब होगी कब कार्रवाई होगी यह अपने आप में सबसे बड़ा सवाल है लेकिन कहीं ना कहीं मोदी के सपनों के उन्हीं के अधिकारी सिर्फ कागजों में खानापूर्ति कर बस्ती जिले को स्वच्छ और सुंदर बना रहे हैं जमीनी हकीकत कुछ और ही बयान कर रही है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।