भाजपा राज में उत्तर प्रदेश अपराध प्रदेश बनता जा रहा, मंत्री भी शर्मनाक विवादास्पद बयान दे रहे-अखिलेश यादव - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 9 June 2019

भाजपा राज में उत्तर प्रदेश अपराध प्रदेश बनता जा रहा, मंत्री भी शर्मनाक विवादास्पद बयान दे रहे-अखिलेश यादव





समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में उत्तर प्रदेश अपराध प्रदेश बनता जा रहा है। भाजपा ने देश ही नहीं दुनिया में इसकी बदनामी करा दी है। राज्य सरकार अपराधों पर नियंत्रण करने में पूरी तरह विफल हुए हैं। न तो उत्तर प्रदेश से अपराधी बाहर गए हैं और नहीं जेल जाने का उन्हें कोई भय है। माफिया और अफसरशाही के गठजोड़ से अपराधियों की हर तरफ उनके धंधे बेरोकटोक फलफूल रहे हैं। रेप जैसे जघन्य अपराध पर राज्य सरकार के मंत्री भी शर्मनाक विवादास्पद बयान दे रहे हैं।
        
उत्तर प्रदेश में जघन्य अपराधों में इस बार जो बाढ़ आई है वह चिंताजनक है। अलीगढ़ के टप्पल गांव में ढाई वर्ष की मासूम के साथ दरिंदगी की दिल दहलाने वाली घटना अभी भूली भी नहीं थी कि जनपद हमीरपुर के थाना कुरारा क्षेत्र में कक्षा 5 की छात्रा का 7 जून को अपहरण करके उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या की खबर ने झकंझोक दिया। बरेली के थाना भोजीपुरा क्षेत्र में एक 8 साल की बच्ची हैवानियत की शिकार हुई तो वाराणसी में मध्यमेश्वर इलाके में एक 10 साल की बच्ची बलात्कार की शिकार बनी। जालौन में 7 वर्षीय बच्ची का शव मिला। दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या की गई। कुशीनगर में अहिरौली बाजार क्षेत्र में एक नाबालिग से गैंगरेप हुआ। मेरठ में 9 साल की बच्ची का शव मिला जो 4 जून से लापता थी। उसकी दुष्कर्म के प्रयास में गला दबाकर हत्या की गई।नारी सशक्तीकरण और बेटी बचाओ के कथित अभियान चलाकर बड़े-बड़े दावे करने वाली भाजपा सरकार में महिलाएं और बच्चियां ही सबसे ज्यादा अमानवीय स्थितियों से गुजरने को मजबूर हैं। समाजवादी सरकार ने अपराध स्थल पर तत्काल पहुंचने के लिए यूपी 100 डायल सेवा और महिला सुरक्षा के लिए 1090 सेवा शुरू की थी, भाजपा ने अपने शासन काल में इन्हें बर्बाद कर दिया। नतीजे सामने हैं।

       
लोकसभा चुनावों के बाद उत्तर प्रदेश में अपराधों का ग्राफ बढ़ने से जनजीवन पूरी तरह असुरक्षित हो गया है। परिवार डरे और सहमे हैं। भाजपा नेताओं के अहंकार और विद्वेष पूर्ण आचरण के चलते प्रशासन पंगु हो गया है। पुलिस बल का मनोबल बुरी तरह से गिर चुका हैं। बची-खुची कसर वे तत्व पूरी कर रहे हैं जो समाज में नफरत पैदाकर प्रदेश के वातावरण को विषाक्त बनाए रखना चाहते हैं।
         
जनता में गहरा आक्रोश है। लखनऊ से दिल्ली तक एक ही पार्टी भाजपा का राज होने के बावजूद कानून व्यवस्था की स्थिति में निरंतर बिगाड़ से प्रदेश में अमानवीय घटनाएं लगातार हो रही हैं और उनके दोषी बिना किसी खौफ कुक्ृत्यों में लिप्त रहे हैं? जिन हैवानो की जिंदगी सलाखों के पीछे कटनी चाहिए वे कैसे सरकारी ढिलाई से बच निकलते हैं और घृृणित वारदातो को अंजाम देते रहते है? यह निहायत संवेदन शून्य सरकार है।

No comments:

Post a Comment