कानपुर - आयकर विभाग में एक हजार सहायक आयुक्तों को नहीं मिल रही प्रोन्नति - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 30 July 2019

कानपुर - आयकर विभाग में एक हजार सहायक आयुक्तों को नहीं मिल रही प्रोन्नति




 


रिपोर्ट - अभिलाष

आयकर विभाग में पांच वर्षो से करीब एक हजार सहायक आयुक्तों को प्रोन्नति नहीं मिल रही है।आयकर विभाग में पांच वर्षो से करीब एक हजार सहायक आयुक्तों को प्रोन्नति नहीं मिल रही है। इससे आयकर अधिकारी से प्रोन्नत होकर सहायक आयुक्त बने अधिकारी लगातार पिछड़ते जा रहे हैं। यह बात शुक्रवार को आयकर राजपत्रित अधिकारी संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद त्रिवेदी ने केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात के दौरान कही। नई दिल्ली में हुई मुलाकात के दौरान उन्होंने बताया कि वर्ष 2014 बैच के प्रोन्नत अधिकारियों की उपायुक्त पद पर पदोन्नति अभी तक लंबित है। जबकि उस समय के सीधी भर्ती के सहायक आयुक्त आगे उपायुक्त पद पर प्रोन्नत हो चुके हैं। उनके मुताबिक वर्ष 2014 में कुछ वजह से आयकर अधिकारियों से प्रोन्नत होकर सहायक आयुक्त बने अधिकारियों की पदोन्नति लंबित रह गई थी। 2015 में भी जब पदोन्नति नहीं हुई तो 2016 में बोर्ड ने अस्थाई तौर पर उन्हें पदोन्नति दे दी थी। 2014 बैच के अधिकारियों की तो पदोन्नति 2019 में आकर हुई लेकिन 2015, 2016, 2017, 2018 के बैच भी एडहॉक हो गए हैं। इनकी उपायुक्त पद के लिए डीपीसी नहीं हो रही क्योंकि बताया जा रहा है कि चार वर्ष नियमित रूप से कार्य होना चाहिए। उन्होंने दी गई व्यवस्थाओं के तहत सभी की एडहॉक प्रोन्नति को नियमित प्रोन्नति में करने की मांग की। वित्त राज्य मंत्री ने उन्हें जल्दी ही समस्या दूर कराने का आश्वासन दिया। कहा कि कर्मचारियों के हितों की रक्षा की जाएगी। इस मौके पर साथ में राष्ट्रीय महासचिव अमिताभ डे, संयुक्त सचिव ओमप्रकाश सिन्हा, दिल्ली इकाई के अध्यक्ष पंकज मेहता मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।