मनरेगा के तहत मजदूरों को नहीं मिला काम तो बीडीओ को प्राथना पत्र देकर काम करने की लगाई गुहार - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Thursday, 11 June 2020

मनरेगा के तहत मजदूरों को नहीं मिला काम तो बीडीओ को प्राथना पत्र देकर काम करने की लगाई गुहार

ईश्वर चन्द्र पटेल, कुशीनगर

मनरेगा के तहत मजदूरों को नहीं मिला काम तो बीडीओ को प्राथना पत्र देकर काम करने की लगाई गुहार

कुशीनगर। मनरेगा के तहत जहा केंद्र सरकार व प्रदेश सरकार ने दावा किया है कि हर मजदूर को मनरेगा में काम मिलेगा वहीं जनपद कुशीनगर के ग्राम पंचायत पखनहा, ब्लाक विशुनपुरा, तहसील पडरौना, में यह दावा हाशिए पर खड़ा दिख रहा है।आलम यह है कि मजदूरों को नहीं मिल रहा है मनरेगा के तहत काम ।

स्थानीय गांव के मजदूरों का आरोप है कि हम लोग गांव के रोजगार सेवक व ग्राम पंचायत अधिकारी से मनरेगा में काम की मांग किए लेकिन हम लोगों को कोई काम करने को नहीं मिला आरोप है कि गांव के ग्राम प्रधान के मिलीभगत से रोजगार सेवक और ग्राम पंचायत अधिकारी जो मनरेगा में व्यक्ति काम नहीं करते हैं उनका भी मास्टर रोल में नाम भर कर खाते में पैसे भेज करके निकलवा लिया जाता है जिससे स्थिति यह है कि मजदूरों को काम ना मिलने के कारण घर पर आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है । मजदूरों का कहना है कि हम लोगों की दैनिक स्थिति ठीक नहीं है। दर्जनों मजदूरों ने वीडियो को प्रार्थना पत्र देकर मनरेगा के तहत काम करने की गुहार लगाई अब देखना यह है कि क्या इन मजदूरों की बातों को जिम्मेदार अधिकारी सुन रहे हैं या इन्हें मनरेगा में काम करने के लिए और उच्च अधिकारियों के पास चक्कर लगाना पड़ेगा।  प्रार्थना पत्र देते वक्त सोशल डिक्टेशन के पालन करते हुए मजदूरों ने अपनी मांग जिला खण्ड अधिकारी के पास रखी वीडियो विशनपुरा ने आश्वासन दिया कि जल्द से जल्द आप लोगों को काम उपलब्ध करा दिया जाएगा इस आश्वासन के बाद तब जाकर मजदूरों ने अपने घरों के लिए प्रस्थान किए।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।