यूरिया खाद्य के लिये दर दर भटक रहे हैं किसान,81 ग्राम पंचायत में 350 बोरी खाद्य ऊंट के मुंह में जीरा - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 25 August 2020

यूरिया खाद्य के लिये दर दर भटक रहे हैं किसान,81 ग्राम पंचायत में 350 बोरी खाद्य ऊंट के मुंह में जीरा

राकेश सिंह गोण्डा 

अधिकारियों के लचर व्यवस्था के कारण अधिकतर समितियों का संचालन ठप यूरिया खाद्य के लिये दर दर भटक रहे हैं किसान

81 ग्राम पंचायत में 350 बोरी खाद्य  ऊंट के मुंह में जीरा

 
छपिया क्षेत्र के किसानों को यूरिया खाद की भारी कमी का सामना करना पड़ रहा है। खाद के लिए उनको दर दर भटकना पड़ रहा है। विकास खंड में अधिकारियों के लचर व्यवस्था के कारण अधिकत्तर समितियों का संचालन ठप पड़ा। जिससें खाद के लिए लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। रविवार को तिरूखा बुजुर्ग समिति पर तहसीलदार मिश्री सिंह चौहान ने खाद बंटवाया। उन्होंने बताया कि इस समिति पर 350 बोरी खाद बंटवाया गया। खास बात यह है कृषि जिला अधिकारी जगदीश प्रसाद यादव ही यहां के वी डी ओं है। किसानों को पता चला कि तिरूखा बुजुर्ग समिति के कुसुमी गोदाम पर खाद बंटने वाली है। तो भारी भीड़ लग गई अफरा-तफरी का माहौल हो गया।लम्बी लाईन लगी रही। महिलाओं ने भी लाईन लगाना पडा। तिरूखा बुजुर्ग के कुसुमी केन्द्र पर कुल 350 बोरी यूरिया आई थी। काफी मशक्कत के बाद यूरिया की पूरे विकास खंड की आबादी डेढ़ लाख से अधिक है। 81 ग्राम पंचायतों में 350बोरी यूरिया आई थी। जो पर्याप्त नही थी।
कुल ग्यारह समितियां जिसमें केवल चार समितियां सक्रिय रूप से काम कर रही है।ए डी ओ कोऑपरेटिव राम सजीवन पाण्डेय ने बताया कि बिछिया वौहान, शीतलगंज, दरियापुर, कर्मा, सिसई रानी पुर और वीरापुर है। जिसमें तीन सक्रिय तिरूखा बुजुर्ग , साबरपुर और नरायनपुर सक्रिय हैं।जल्द ही बचे समितियों को शुरू किया जायेगा।

No comments:

Post a Comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।