गोण्डा: विशुनपुरवा के बाढ़ प्रभावितों को दी गई राशन किट - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

Tahkikat News App

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 9 August 2020

गोण्डा: विशुनपुरवा के बाढ़ प्रभावितों को दी गई राशन किट

राकेश सिंह गोण्डा 


 विशुनपुरवा के बाढ़ प्रभावितों को दी गई राशन किट

जिलाधिकारी ने बाढ़ प्रभावितों को हर सम्भव मदद मुहैया कराने के दिए निर्देश

सकरौर-भिखारीपुर तटबन्ध कटने से बाढ़ की जद में आए तहसील तरबगंज अन्तर्गत ग्राम विशुनपुरवा में जिला प्रशासन द्वारा राहत सामग्री वितरित की जा रही है। शनिवार को बाढ़ प्रभावित मजरा विशुनपुरवा के 08 परिवारों को राशन किट वितरित की गई। इसके अलावा मेडिकल टीम द्वारा ऐली परसौली में काउन्टर लगाकर दवा का वितरण किया गया।
जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल ने बताया कि तहसील करनैलगंज के नकहरा गांव में जलस्तर कम होने से जन जीवन सामान्य हो गया है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि जनपद में इस वर्ष 17 जून से अब तक लगभग 960 मिली लीटर वर्षा हुई है। इस वर्ष अतिवृष्टि के कारण करनैलगंज व तरबगंज में 1105 हेक्टेयर क्षेत्रफल वर्षा के कारण प्रभावित हुआ है जिसमें 839 हेक्टेयर क्षेेत्रफल की फसल भी प्रभावित हुई है।
     जिलाधिकारी ने बताया कि बाढ़ से निपटने के लिए जिले में 23 बाढ़ चाौकियां सक्रिय हैं तथा 02 राहत वितरण केन्द्र वर्तमान में संचालित हैं। आवागमन के लिए 156 नावों का उपयोग किया गया है। 01 प्लाटून पीएसी की फ्लड बटालियन भी तहसील तरबगंज में तैनात है। मेडिकल रिस्पान्स के लिए मेडिकल की 19 टीमें गठित हैं तथा अब तक 1299 लोगांे का उपचार मेडिकल टीम द्वारा किया जा चुका है तथा 32116 लोगों को क्लोेरीन की टैबलेट तथा 1781 लोगों को ओ0आर0एस0 घोल का पैकेट दिया जा चुका है तथा 1432 लोगों को लंच पैकेट प्रदान किया गया है। जिलाधिकारी ने राजस्व, बाढ़ खण्ड तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लगातार आवश्यक राहत कार्य सुचारू रूप से कराए जाएं।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।