यात्रीगण ध्यान दें...वाराणसी के मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम अब 'बनारस रेलवे स्टेशन' - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Tuesday, 18 August 2020

यात्रीगण ध्यान दें...वाराणसी के मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम अब 'बनारस रेलवे स्टेशन'

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

यात्रीगण ध्यान दें...वाराणसी के मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम अब 'बनारस रेलवे स्टेशन'

वाराणसी के मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम अब बनारस रेलवे स्टेशन होगा। केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने वाराणसी जिले में मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर ‘बनारस’ करने की मंजूरी दे दी है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले में मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन (Banaras Railway Station) का नाम बदलकर ‘बनारस’ करने की मंजूरी दे दी है। यह जानकारी अधिकारियों ने सोमवार को दी। उत्तर प्रदेश सरकार ने वाराणसी जिले में रेलवे स्टेशन का नाम बदलने के लिए आग्रह भेजा था। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर ‘बनारस’ (Benares Railways Station) करने के लिए ‘अनापत्ति प्रमाण पत्र’ जारी किया गया है।
मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन वाराणसी शहर में ही स्थित है। इस स्टेशन से हर रोज दिल्ली, बिहार, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र के लिए ट्रेनों का संचालन होता है। पूर्व रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा के कार्यकाल में इस स्टेशन का नवीनीकरण और विस्तार कराया गया था, जिसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने इसका लोकार्पण किया था। मंडुवाडीह के अलावा वाराणसी में वाराणसी जंक्शन और काशी रेलवे स्टेशनों से भी ट्रेनों का संचालन होता है।
रेल मंत्रालय को दी गई मंजूरी
सरकार के अफसरों के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने अब मंडुवाडीह स्टेशन का नाम बदलकर बनारस करने का फैसला मंजूर किया है। गृह मंत्रालय नाम बदलने के लिए वर्तमान दिशा-निर्देशों के मुताबिक संबंधित एजेंसियों से विचार-विमर्श करता है। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि वह किसी भी स्थान का नाम बदलने के प्रस्ताव को रेल मंत्रालय, डाक विभाग और सर्वे ऑफ इंडिया से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेने के बाद ही मंजूरी देता है।


अधिकारी ने बताया कि किसी गांव या शहर या नगर का नाम बदलने के लिए शासकीय आदेश की जरूरत होती है। किसी राज्य के नाम में बदलाव के लिए संसद में साधारण बहुमत से संविधान में संशोधन की जरूरत होती है।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।