विश्वकर्मा पूजा छुट्टी के लिए समाज ने सामूहिक मुंडन करवा कर सरकार की हठधर्मिता का विरोध किया - तहकीकात न्यूज़ | Tahkikat News |National

आज की बड़ी ख़बर

Sunday, 13 September 2020

विश्वकर्मा पूजा छुट्टी के लिए समाज ने सामूहिक मुंडन करवा कर सरकार की हठधर्मिता का विरोध किया

कैलाश सिंह विकास वाराणसी

विश्वकर्मा पूजा छुट्टी के लिए समाज ने सामूहिक मुंडन करवा कर सरकार की हठधर्मिता का विरोध किया

वाराणसी 13 सितंबर। ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के तत्वावधान में विश्वकर्मा पूजा की मांग को लेकर लंबे समय से चलाए जा रहे आंदोलन के तहत सरकार की हठधर्मिता भेदभाव खिलाफ समाज के लोगों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा के नेतृत्व में आज काशी राजघाट स्थित शक्ति घाट पर सामूहिक मुंडन करवा कर विरोध जताया तथा विश्वकर्मा पूजा पर्व का  राजकीय सार्वजनिक अवकाश घोषित होने तक संघर्ष जारी रखने का संकल्प लिया। इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा हिंदुत्व और राष्ट्रवाद की बात करने वाली सरकार जातीय आधार पर देवी देवताओं को बांटकर  करोड़ों श्रद्धालुओं की आस्था के साथ भेदभाव और आघात कर रही है तथा विश्वकर्मा पूजा पर्व की पौराणिक परंपरा संस्कृति और उसकी पहचान खत्म करना चाहती है। देव शिल्पी विश्वकर्मा देशभर में फैले करोड़ों विश्वकर्मा वंशीयो के स्वाभिमान गौरव और सामाजिक पहचान हैं। उन्होंने कहा भाजपा सरकार द्वारा विश्वकर्मा पूजा पर्व का अवकाश रद्द किया जाना गंभीर राजनैतिक षडयंत्र है ज्ञात हो कि 17 सितंबर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी जन्म दिवस है, श्री नरेंद्र मोदी देश में एक बड़े आदर्श महापुरुष के रूप में याद किए जाएं इसलिए सरकार विश्वकर्मा पूजा पर्व के दिवस की महत्ता को गौड़ और विलुप्त करने का  बड़ा राजनैतिक षड्यंत्र कर रही है। उन्होंने सरकार से मांग किया कि विश्वकर्मा पूजा पर्व का अवकाश घोषित करने के साथ ही देश भर में प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर आयोजित होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के साथ भगवान विश्वकर्मा के सम्मान में उनके नाम पर भी सरकार द्वारा कार्यक्रम आयोजित होना चाहिए और कला, शिल्प, तकनीकी, विज्ञान, इंजीनियरिंग आदि क्षेत्र में विशिष्ट योगदान करने वाले व्यक्तियों को सम्मानित करना चाहिए। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से श्रीकांत विश्वकर्मा डॉ प्रमोद कुमार विश्वकर्मा नंद लाल विश्वकर्मा चंद्रशेखर विश्वकर्मा सुरेश विश्वकर्मा एडवोकेट श्याम बिहारी विश्वकर्मा रमेश विश्वकर्मा राम किशुन विश्वकर्मा लोचन विश्वकर्मा सुरेश विश्वकर्मा दीनदयाल  विश्वकर्मा कालिका विश्वकर्मा अजय विश्वकर्मा राहुल विश्वकर्मा संजय बागी  चौधरी विश्वकर्मा  अशोक विश्वकर्मा पड़ाव  राजवंश विश्वकर्मा कमलेश विश्वकर्मा पड़ाव  विजयलक्ष्मी विश्वकर्मा हेमंत विश्वकर्मा सुरेंद्र विश्वकर्मा महेंद्र विश्वकर्मा राजेंद्र विश्वकर्मा  श्याम लाल विश्वकर्मा कमलेश विश्वकर्मा लाल बिहारी विश्वकर्मा डॉ सुनील कुमार विश्वकर्मा मुन्ना लाल विश्वकर्मा गोलू विश्वकर्मा रोहित विश्वकर्मा पिंटू विश्वकर्मा राम लखन विश्वकर्मा रणजीत विश्वकर्मा सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

No comments:

Post a comment

तहकीकात डिजिटल मीडिया को भारत के ग्रामीण एवं अन्य पिछड़े क्षेत्रों में समाज के अंतिम पंक्ति में जीवन यापन कर रहे लोगों को एक मंच प्रदान करने के लिए निर्माण किया गया है ,जिसके माध्यम से समाज के शोषित ,वंचित ,गरीब,पिछड़े लोगों के साथ किसान ,व्यापारी ,प्रतिनिधि ,प्रतिभावान व्यक्तियों एवं विदेश में रह रहे लोगों को ग्राम पंचायत की कालम के माध्यम से एक साथ जोड़कर उन्हें एक विश्वसनीय मंच प्रदान किया जायेगा एवं उनकी आवाज को बुलंद किया जायेगा।